लखनऊ, जेएनएन। राज्यसभा में गृह मंत्री अमित शाह के जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने की सिफारिश के बाद से ही उत्तर प्रदेश में जश्न का माहौल है। वहीं निर्णय के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस अलर्ट मोड में आ गई।सुरक्षा के इंतजाम में इजाफा किया गया है। अयोध्या, मथुरा, हाईकोर्ट समेत सभी प्रमुख स्थलों पर सुरक्षा बढ़ी है। सभी जिलों में संवेदनशील स्थानों पर पुलिस तैनात करने के साथ ही अतिरिक्त सतर्कता बरते जाने का निर्देश दिया गया है। जुलूस, धरना, प्रदर्शन के आयोजन पर रोक लगा दी गई है। इसके साथ ही यहां रह रहे या पढ़ रहे कश्मीरियों की सुरक्षा पर विशेष ध्यान देने को कहा गया है।

जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने की सिफारिश के बीच प्रदेश में भावनात्मक ज्वार उमड़ पड़ा। लोग सड़कों पर हैैं, पटाखे फोड़कर व मिठाइयां बांटकर खुशियों का इजहार कर रहे हैैं। हर सड़क पर तिरंगा लहराता दिख रहा है। इसके साथ ही पुलिस भी हाई अलर्ट पर है। जश्न के बीच ही प्रदेश की योगी आदित्यनाथ ने सुरक्षा के इंतजाम बढ़ा दिए हैं। जिलों में पुलिस हाई अलर्ट पर है। जगह-जगह पर सघन चेकिंग अभियान चल रहा है। जम्मू कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने के प्रस्ताव के साथ ही अलीगढ़ में धारा 144 लागू कर दी गई है। डीएम सीबी सिंह के साथ एसएसपी संवेदनशील इलाकों का जायजा ले रहे है। मुस्लिम इलाकों में आरएएफ ने फ्लैग मार्च किया है। इसके साथ ही एएमयू में निकलने वाली जूनियर डॉक्टरों की रैली स्थगित की गई है।

डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि जिन जिलों में कश्मीरी छात्र पढ़ रहे हैं और किसी कार्यालय अथवा प्रतिष्ठान में कश्मीर के मूल निवासी कार्यरत हैं, उनकी सुरक्षा का समुचित बंदोबस्त किया जाये। किसी भी परिस्थिति में उनके साथ कहीं कोई दुव्र्यवहार न हो। खासकर सोशल मीडिया पर भ्रामक व भड़काऊ संदेश वायरल करने वालों पर कड़ी निगाह रखी जाये और किसी अफवाह अथवा भ्रामक पोस्ट का तत्काल खंडन किया जाये। आपत्तिजनक संदेश प्रसारित करने वालों पर तत्काल कठोर कार्रवाई भी की जाये। डीजीपी ने कहा कि मौजूदा स्थिति में किसी प्रकार के जुलूस, मोटरसाइकिल रैली अथवा ऐसे किसी अन्य आयोजन की अनुमति किसी सूरत में न दी जाये। एलआइयू को भी विशेष सतर्कता बरतने का निर्देश दिया गया है। विभिन्न राजनीतिक दलों व उनके समर्थकों की किसी प्रकार के विरोध अथवा धरना-प्रदर्शन की तैयारी का आंकलन कर उसकी सूचना वरिष्ठ अधिकारियों व जिला प्रशासन को समय से दी जाये। 

डीजीपी ने निर्देश दिया है कि सावन के अंतिम सोमवार, बकरीद व 15 अगस्त के दृष्टिगत पूर्व में दिये गये निर्देशों के अनुसार सार्वजनिक स्थानों, प्रमुख धार्मिक स्थलों, बस अड्डों, स्टेशनों, मॉल, सिनेमाघरों, सरकारी भवनों, न्यायालय व ऐसे सभी महत्वूपर्ण स्थानों पर एंटी सेबोटाज चेकिंग कराने के साथ ही पुलिसकर्मियों को भी मुस्तैद किया जाये। डीजीपी ने कहा कि सभी एडीजी व आइजी समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी लगातार सुरक्षा-व्यवस्था पर नजर रखेंगे। 

लखनऊ में जम्मू कश्मीर मुद्दे को देखते हुए पुलिस हाई अलर्ट राजधानी में हाई अलर्ट। सभी संवेदनशील स्थानों पर बढाई गई सुरक्षा। पुराने लखनऊ समेत अन्य इलाकों में पुलिस कर रही है गश्त। गौरतलब है कि रविवार को इस मामले की गंभीरता को देखते हुए सभी पुलिसकर्मियों की छुट्टियां रद्द कर दी गई थीं।

मेरठ शहर में पीएसी लगाकर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। शहर को 22 जोन और 12 सेक्टर में बांटा गया है। हर प्वाइंट पर पीएसी लगा दी गई है। सभी सेक्टर की जिम्मेदारी सीओ को सौपी गई है। सुभारती यूनिवर्सिटी समेत अन्य के कॉलेजों पर कड़ी सुरक्षा कर दी गई है। हॉस्टल पर नजर रखने के लिए पीएसी लगाई गई। शहर में आरएफ को भी बुलाया है। घण्टाघर, बेगमपुल ओर हापुड़ अड्डे पर आरएफ लगाई गई। एसपी सिटी की निगरानी में सभी ड्यूटी खड़ी कर दी गई है।

एसएसपी ओर डीएम भी जनपद में दौरे पर निकले हुए है। पुलिस ने भारती यूनिवर्सिटी पर अपनी सुरक्षा लगा दी है। कॉलेज के स्टाफ के साथ भी मीटिंग की गई। ताकि हॉस्टल पर नजर रखी जा सके। 2014 में भी पाकिस्तान की जीत पर कश्मीरी छात्रों ने सुभारती में जिंदाबाद के नारे लगाए थे। जिसमें 61 कश्मीरी छात्रों को वापस भेज दिया गया था। साथ ही खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा भी दर्ज किया था। सुभारती यूनिवर्सिटी को लेकर पुलिस सक्रिय हो गई है।

जम्मू कश्मीर में धारा 370 हटाने के प्रस्ताव के साथ ही मथुरा जिला आज हाइअलर्ट पर आ गया। जिला प्रशासन में सभी के अवकाश रद कर दिए गए हैं। सघन तलाशी के साथ श्रीकृष्ण जन्मभूमि पर पहरा कस दिया गया है। तैनात सीआरपीएफ और आरपीएफ की एक-एक टुकड़ी को जम्मू-कश्मीर रवाना किया गया है। कैंट इलाके में स्ट्राइक वन कोर परिसर में भी हलचल बढ़ गई है। करीब 150 आर्मी वाहनों को तैयार किया जा रहा है। अभी यह साफ नहीं है कि इन वाहनों को किस उद्देश्य से अलर्ट किया गया है। देश के हालात को देखकर अंदाजा लगाया जा रहा है कि इसे कश्मीर में संभावित उपद्रव के चलते ही अलर्ट रहने को कहा गया है।

जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने से शहर में अलीगढ़ में जश्न का माहौल है। वहां पर प्रशासन भी अलर्ट है। संवेदनशील क्षेत्रों व एएमयू के आस पास पुलिस व आरएएफ तैनात की गई है। हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ता एएमयू सर्किल पर पटाखे चलाएंगे। इस घोषणा के बाद डीएम व एसएसपी में सर्किल का जायजा लिया। एएमयू में रह रहे कश्मीर के छात्रों से बातचीत की। एएमयू में कश्मीर के 200 छात्र हैं। 

नेपाल सीमा पर हाई अलर्ट

भारत-नेपाल सीमा पर भी हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है। सोनौली सीमा के अलावा पगडंडी रास्तों पर भी सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) ने स्थानीय पुलिस के साथ चौकसी बढ़ा दी है। भारत से नेपाल आने-जाने वालों की सघन जांच की जा रही है। एसएसबी 66वीं वाहिनी के कंपनी कमांडर रवि कुमार ने बताया कि गृह मंत्रालय के निर्देश पर रूटीन जांच के दौरान सादे वर्दी में भी एक कंपनी निगरानी कर रही है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Dharmendra Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप