लखनऊ (राज्य ब्यूरो)। समाजवादी परिवार के सत्ता संग्राम का जमीन पर प्रभाव दिखना शुरू हो गया है। 6 अक्टूबर को आजमगढ़ में जिस रैली के जरिये सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव को विधानसभा चुनाव अभियान का आगाज करना था, वह रैली स्थगित कर दी गई है। नई तिथि अभी घोषित नहीं की गई है, अलबत्ता यह संकेत जरूर मिला है कि अब किसी दूसरे स्थान से चुनावी अभियान शुरू होगा।

संतुलन साधने को उत्तर प्रदेश मंत्रिमंडल का विस्तार जल्द संभव

आजमगढ़ की रैली के जरिये मुलायम सिंह यादव को चुनावी अभियान का आगाज करना था, जिसके लिए कई दौर की बैठक हुई। हमेशा की तरह मंत्री बलराम यादव को रैली का जिम्मा सौंपा गया था। 12 सितंबर से समाजवादी परिवार में सत्ता संग्र्राम शुरू हो गया, जिस पर विराम के बाद गुरुवार को प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने रैली की तैयारियों की और उसकी जानकारी भी मुख्यमंत्री को उपलब्ध कराई। इस बीच आजमगढ़ के एक मशहूर कालेज के कुछ छात्रों ने पुराने कलेक्ट्रेट के पास नवनियुक्त महासचिव अमर सिंह का पुतला फूंका और उनके विरोध में नारेबाजी भी की। मुखिया मुलायम सिंह यादव को इसकी जानकारी उपलब्ध कराई गई। सूत्रों का कहना है कि पुतला फूंके जाने से नाराज मुलायम ने शनिवार को प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव और रैली के प्रभारी मंत्री बलराम यादव से प्रकरण की ब्यौरा मांगा। उन्हें बताया गया किकुछ छात्रों ने अमर सिंह का पुतला फूंका है मगर वे पार्टी के कार्यकर्ता नहीं थे। इस पर मुलायम ने रैली स्थगित करने का फैसला सुनाया। गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी को आजमगढ़ से रैली शुरू करना रास आता रहा है, यही वजह है कि पार्टी मुखिया चुनावी अभियान यहीं से शुरू करना पंसद करते रहे हैं।

सपा संगठन में चलेगा चाबुक, आजम ने संभाला शांति बहाली का मोर्चा

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप