लखनऊ, जेएनएन। सूबे की राजधानी लखनऊ के रिहायशी क्षेत्र में चल रहे कोल्ड स्टोरेज में आज अमोनिया गैस पाइप में धमाका होने से सनसनी फैल गई। धमाका इतना तेज था कि वहां के हैदरगंज चौराहे के पास बने मकानों तथा अपार्टमेंट की दीवारें हिल गईं।

हरियाणा कोल्ड स्टोरेज में अमोनिया गैस का पाइप फटने से तेज धमाका हुआ। धमाके से आसपास के मकान और अपार्टमेंट की दीवारें तक हिल गई। घटना से पूरे इलाके में खलबली मच गई। पाइप में विस्फोट के बाद गैस का रिसाव होने से कोल्ड स्टोरेज के कर्मचारी और आसपास के लोग असहज होने लगे। गैस रिसाव से उन्हें उल्टियां, आंखों में जलन, खुजली और बेचैनी होने लगी। कई तो गश खाकर गिर पड़े। गैस रिसाव की सूचना पर पहुंचे सूचना पर पहुंचे दमकल कर्मियों ने डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद स्थित पर किसी तरह काबू पाया। गैस का रिसाव क्षेत्र में करीब तीन घंटे तक बना रहा। सुरक्षा के मद्देनजर मुख्य मार्ग का आवागमन रोक दिया गया।

हैदर गंज निवासी विशाल भसीन का घर के पास ही हरियाणा कोल्ड स्टोरेज है। आज करीब 11:30 बजे कोल्ड स्टोरेज में अमोनिया टैंक में लगा पाइप तेज धमाके के साथ फट गया। धमाका इतनी तेज था कि आसपास के मकान और अंश अपार्टमेंट समेत कई इमारतें हिल गई।

गैस रिसाव से कर्मचारियों और आसपास के लोगों को उल्टी बदन में खुजली और आंखों में जलन होने लगी। अफरा-तफरी मच गई। कई बाइक सवार सड़क पर गिरे। इस बीच सूचना पर पहुंची बाजार खाला पुलिस ने मुख्य मार्ग आवागमन बंद कर दिया। दमकल को सूचना दी गई। सूचना पर सीओ विजय कुमार सिंह, एफएसओ चौक दमकल की गाडिय़ां लेकर मौके पर पहुंचे। डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद स्थिति पर काबू पाया गया। दो-तीन घंटा तक आसपास क्षेत्र में गैस की गंध बनी रही।

अपार्टमेंट में रहने वाले शफीक के वृद्ध पिता सफीकुल हसन की हालत बिगड़ गई। उन्हें सांस लेने में दिक्कत होने लगी। प्राथमिक उपचार के बाद किसी रिश्तेदार के घर चले गए। स्कूल छुट्टी के बाद लौटे तराना के बेटे आरिफ और इस कारण उलझन और दिक्कत होने लगी। तराना अपने बच्चों को लेकर रिश्तेदार के घर चली गई। पड़ोस में रहने वाले फर्नीचर के कर्मचारी सुनील ने बताया कि धमाका इतनी तेज था कि जैसे बम फट गया हो। वही गिफ्ट की दुकान के मालिक का कहना है कि उनकी आंखों में जलन होने लगी। उन्होंने भाग कर अपने आप को स्टोर रूम में बंद कर लिया। वहां भी राहत न मिली तो भाग कर बाहर निकले और दुकान बंद कर खुले में चले गए।

एक साल पहले लगी थी भीषण आग

यहां बस्ती में अवैध रूप से चल रहे गोदाम में एक साल पहले भी भीषण आग लगी लगी थी। आग पर काबू पाने में तीन दिन लगे थे। आस पास रहने वाले लोग धुएं से परेशान होकर अपने रिश्तेदारों के घर चले गए थे। उस समय बिना एनओसी के चल रहा था। स्टोरेज में बड़े व्यापारियों का काफी माल डंप है। अवैध होने के बाद भी कोई कारवाई नहीं हुई थी। फायर अफसर और जिला प्रशासन के साथ पुलिस की मिली भगत से फिर स्टोरेज चलने लगा। 

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस