लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश के हरदोई संडीला से भाजपा विधायक राजकुमार अग्रवाल ने बुधवार को आइआइएम रोड स्थित अथर्व हॉस्पिटल के प्रबंधन को अपने बेटे की मौत का जिम्मेदार ठहराते हुए काकोरी थाने में तहरीर दी है। विधायक ने तहरीर में बेटे के इलाज में लापरवाही और षड़यंत्र रचने का आरोप लगाया है। वहीं, इंस्पेक्टर काकोरी कुलदीप सिंह गौर ने पत्र को सीएमओ कार्यालय भेजकर पूरे प्रकरण की जांच कराने को कहा है। दरअसल, बीते 26 अप्रैल को विधायक के बेटे आशीष उर्फ बिल्लू (38) की अथर्व हॉस्पिटल में ही मौत हो गई थी। वह कोविड पॉजिटिव थे। 

24 अप्रैल को हुआ था भर्ती: जानकारी के मुताबिक, भाजपा विधायक राजकुमार अग्रवाल के बेटे आशीष पैक्स पैड के निदेशक थे। 16 अप्रैल को आशीष की कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आयी। इसके बाद से वह घर में क्वारेंटीन थें। एकाएक हालात बिगड़ने पर पिता ने उन्हें 24 अप्रैल को आइआइएम रोड बसंत कुंज स्थित अथर्व हॉस्पिटल में भर्ती कराया था। जहां 26 अप्रैल की सुबह इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। विधायक ने बेटे की मौत पर अस्पताल प्रशासन पर इलाज में घोर लापरवाही बरतने और षड़यंत्र का आरोप लगाते हुए कर्मचारियों और प्रबंधन पर कार्यवाही की मांग की है।

ऑक्सीजन समाप्त होने पर तीमारदारों को बाहर निकाल कर जड़ दिया था ताला: विधायक का आरोप है कि बेटे की मौत से पहले अस्पताल में ऑक्सीजन समाप्त हो गई थी। इसके बाद अस्पताल कर्मियों और प्रबंधन ने तीमारदारों को बाहर निकालकर गेट में ताला जड़ दिया था। घटना के समय बड़ा बेटा संजय अग्रवाल वहीं पर मौजूद था। इलाज भी रोक दिया था। बेटे ने कई बार गुहार की पर अस्पताल प्रशासन ने एक न सुनी।

डॉक्टरों ने एक न सुनी, बेटे की तड़प-तड़प कर मौत: विधायक ने तहरीर में लिखा कि ऑक्सीजन खत्म होने पर बड़े बेटे संजय ने डॉक्टर नदीम नकवी से मुलाकात की और उनसे कहा कि वह ऑक्सीजन सिलिंडर की व्यवस्था करके ला रहा है। इसके बाद भी डॉक्टर ने एक न सुनी। उन्होंने सिलिंडर बाहर से लेने से इन्कार कर दिया। इसके बाद ऑक्सीजन के अभाव में बेटे की तड़प-तड़प कर मौत हो गई। इंस्पेक्टर काकोरी ने बताया कि विधायक ने अथर्व अस्पताल प्रशासन पर इलाज में लापरवाही और षड़यंत्र का आरोप लगाया है। पत्र सीएमओ कार्यालय भेजा गया है। वहां से जांच रिपोर्ट आने पर कार्यवाही की जाएगी।