लखनऊ, जेएनएन। कमलेश तिवारी की हत्या की साजिश रचने वाले तीन आरोपितों को लखनऊ पुलिस 72 घंटे की ट्रांजिट रिमांड पर लेकर सोमवार को राजधानी पहुंची। अहमदाबाद से तीनों को फ्लाइट से क्राइम ब्रांच की टीम उन्हें लेकर आई। अमौसी एयरपोर्ट के बाहर मीडियाकर्मियों के मौजूद होने की जानकारी मिलने पर पुलिस टीम उन्हें दूसरे रास्ते से लेकर निकल गई।

इसके बाद सोमवार को पूरे दिन आरोपित मौलाना शेख सलीम, फैजान और राशिद अहमद पठान को गुप्त स्थान पर रखा गया, जहां उनसे लखनऊ पुलिस ने पूछताछ की। इस दौरान आरोपितों ने कहा कि वर्ष 2015 में उन्होंने कमलेश तिवारी की ओर से दिए गए विवादित बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर देखा था। तब से वह कमलेश की हत्या की साजिश रच रहे थे। इसके लिए उन्होंने कई बार मीटिंग की थी।

सूत्रों के मुताबिक मौलाना शेख सलीम बार-बार हत्या की योजना को पूरा करने की बात करता था। सभी आरोपित एक दूसरे के परिचित थे। साजिश के तहत सोशल मीडिया पर कमलेश की गतिविधियों पर नजर रखा जा रहा था। आरोपित इस बात की कोशिश भी कर रहे थे कि किसी तरह कमलेश पार्टी के काम को लेकर सूरत आ जाएं। लंबे समय तक इंतजार करने के बाद भी जब कमलेश के सूरत आने की कोई संभावना नहीं दिखी तो 15 अक्टूबर बैठक आयोजित की थी। इस दौरान मौलाना शेख सलीम ने नाराजगी जताते हुए काम में देरी होने की बात कही थी। इसके बाद अशफाक और मोइनुद्दीन तैयार हो गए थे।

अन्य लोगों को भी थी साजिश की जानकारी

आरोपितों की साजिश की जानकारी उनके कई साथियों को थी। पूछताछ में तीनों ने इसकी पुष्टि की है। इसी क्रम में एटीएस ने लखनऊ पुलिस की मदद से नागपुर में एक अन्य आरोपित सैय्यद आसिम अली को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि सूरत के कई लोग साजिश में शामिल थे। इनमें से कुछ घर छोड़कर फरार हैं, जिनके बारे में गुजरात पुलिस पता लगा रही है।

शेख की तलाश जारी

ट्रांजिट रिमांड पर लिए गए आरोपित मौलाना शेख सलीम, फैजान और राशिद अहमद पठान ने बताया कि सूरत रेलवे स्टेशन से उन लोगों ने अपने एक करीबी शेख से असलहा लिया था। इस साजिश में शेख की संलिप्तता की बात भी सामने आई है। हालांकि पुलिस अधिकारी इस बाबत चुप्पी साधे हुए हैं।

अलग-अलग की पूछताछ

एसटीएफ, एटीएस और खुफिया एजेंसियों ने तीनों आरोपितों से अलग-अलग पूछताछ की। आरोपितों को बरेली के उस संदिग्ध युवक की फोटो भी दिखाई गई, जिसने हत्यारों की मदद की थी। पुलिस ने सभी आरोपितों के मूल निवास के बारे में जानकारी ली है। पुलिस की एक टीम पीलीभीत रवाना की गई है। यही नहीं आरोपितों के बिजनौर कनेक्शन के बारे में भी जानकारी जुटाई गई है। 

यूपी से भी है कनेक्‍शन

हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्‍याकांड में साजिश करने वाले तीन आरोपित मौलाना शेख सलीम (24), फैजान (23) और राशिद अहमद पठान (23) हैं। इन्‍हें गुजरात एटीएस ने हत्‍या के दूसरे दिन 19 अक्टूबर को सूरत में पकड़ा था।  

यह भी पढ़ें: Kamlesh Tiwari Murder Case: हिंदुवादी नेता बनकर कमलेश के करीब पहुंचा था हत्यारा अशफाक

स्लीपिंग मॉड्यूल और सेल्‍फ मोडिटेवेड सेल से इंकार नहीं: ओपी सिंह 

कमलेश तिवारी हत्याकांड पर डीजीपी ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों को आज लखनऊ लाया जा रहा है। आरोपियों को रिमांड पर लेकर सघन पूछताछ होगी। जांच के सभी विकल्प खुले हुए हैं । हम महाराष्ट्र ,गुजरात ,कर्नाटक के डीजीपी और एटीएस से लगातार हम संपर्क में हैं। आतंकियों के सेल्फ मोटिवेटेड, स्लीपिंग मॉड्यूल भी होते हैं, हम किसी भी संभावना से इंकार नहीं कर रहे हैं । जांच को लॉजिकल एंड तक जल्द पहुंचा देंगे। वारदात में यूपी का कनेक्शन भी है जिस पर पड़ताल चल रही है।

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप