सहारनपुर (जेएनएन)। केंद्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के महाशिवरात्रि के उपलक्ष्य में मंत्रोच्चार के बीच भगवान शंकर की आरती और जलाभिषेक करने पर उलमा ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए इसे सियासी ढोंग करार दिया है। दूसरे मजहब की पूजा-पद्धति अपनाने पर उलमा ने कहा कि अल्लाह के सिवा किसी और की पूजा करना नाजायज है। रामपुर एस्टेट के बागेश्वर मंदिर में केंद्रीय मंत्री नकवी ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ भगवान शंकर की आरती और जलाभिषेक किया था।

इसकी वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हुई थी। दूसरे मजहब की पूजा-पाठ किए जाने पर फतवा ऑन मोबाइल सर्विस के चेयरमैन मुफ्ती अरशद फारुकी ने कहा कि अपने मजहब के अकीदे के खिलाफ जाकर पूजा-पाठ करना गलत है। दारुल उलूम अशरफिया के मोहतमिम सालिम अशरफ कासमी ने नकवी के इस कार्य को ढोंग बताया और कहा कि यदि कोई व्यक्ति दूसरे मजहब की पूजा क्रियाएं करता है, तो उसे अल्लाह से इसकी तौबा करनी चाहिए। 

By Ashish Mishra