लखनऊ, जेएनएन। दुर्गा पूजा समितियों की ओर से पंडालों को खास बनाने की कोशिश हर साल की जाती है। वर्तमान परिदृश्य के साथ ही पौराणिक और प्रसिद्ध मंदिरों को दिखाने का प्रयास होता है। विकास नगर के सेक्टर-नौ में इस बार मैसूर के किले में मां भवानी विराजमान होंगी। शाश्वत सोशल एंड कल्चरल क्लब की ओर से हो रही दुर्गा पूजा की शुरुआत गुरुवार को आनंद मेले से हो गई।

मैसूर पैलेस की तर्ज पर बनने वाले पंडाल में मां के दर्शन होंगे। पंडाल की ऊंचाई करीब 80 फीट है। दुर्गा पूजा पार्क में होने वाली पूजा के लिए पंडाल में 20 फीट ऊंची मां की भव्य प्रतिमा स्थापित की गई है। सचिव सुमित कुमार भौमिक ने बताया कि दक्षिण भारत के कर्नाटक स्थित मैसूर शहर में चामुंडी पहाड़ पर स्थित इस किले की आभा का अहसास हो इसका पूरा इंतजाम किया गया है। ताजमहल के बाद पर्यटकों को भाने वाले किले के स्वरूप को दिखाकर राजधानी के श्रद्धालुओं को अपनी ओर खींचने का प्रयास किया जा रहा है।

खास आयोजन

  • मां का श्रृंगार कोलकाता की कुमारटुली से आए साज-सामान से किया गया है।
  • मां की आंखें पारंपरिक रूप से बांस के पत्ते की आकार में बनाई जा रही हैं।
  • हर दिन धुनुचि और ढाक की तान पर आरती होगी।
  • सात अक्टूबर को डांडिया नाइट का आयोजन होगा
  • डांडिया नाइट, फैशन शो समेत प्रतिदिन सांस्कृतिक कार्यक्रम। 

पूजन में खास

  • चार अक्टूबर- महाषष्ठी पूजन
  • पांच अक्टूबर-महासप्तमी पूजन
  • छह अक्टूबर- महाअष्टमी पूजा संधि पूजा दोपहर (1:57 बजे से 2:41 बजे के बीच)
  • सात अक्टूबर- महानवमी पूजा
  • आठ अक्टूबर- सिंदूर खेला विदाई

Posted By: Divyansh Rastogi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप