लखनऊ। प्रदेश में ब्लाक प्रमुख चुनाव के नामांकन के दौरान भी चुनावी ङ्क्षहसा नहीं थमी। कई जगह सपा-बसपा कार्यकर्ताओं में जमकर भिड़ंत हुई। इस दौरान पथराव, फायरिंग व तोडफ़ोड़ भी की गई। नामांकन प्रक्रिया पूरी होने के बाद सपा का परचम लहराते हुए कई जगह स्थिति स्पष्ट हो गई है तो कई स्थानों पर नाम वापसी का इंतजार है। साथ ही प्रतिद्वंद्विता की जोड़तोड़ भी शुरू हो गई है। अलीगढ़ में प्रत्याशी का पर्चा फाड़ दिया गया तो, बिजनौर में प्रत्याशी समर्थकों पर हमला हुआ। कुछेक जगहों से बीडीसी सदस्य के अपहरण के भी आरोप लगे और मुकदमा दर्ज हुआ। प्रदेश के 74 जिलों में 816 ब्लाकों में शुक्रवार को प्रमुख पद के लिए नामांकनपत्र दाखिल करने का काम पूरा किया गया। 313 ब्लाकों में केवल पर्चा भरे जाने के कारण वहां निर्विरोध निर्वाचन का रास्ता साफ हो गया है। गोरखपुर के सहजनवां ब्लाक कार्यालय में शुक्रवार को नामांकन करने जा रहे प्रमुख पद के एक प्रत्याशी के समर्थकों पर सपा प्रत्याशी की मौजूदगी में उनके समर्थकों ने हमला बोल दिया। पिटाई के दौरान हमलावरों ने असलहे के बल पर नामांकन की फाइल भी लूट ली। पीडि़त की तहरीर पर पुलिस ने सपा के प्रमुख पद के प्रत्याशी रामप्रकाश शुक्ल, उनके भाई तथा अन्य समर्थकों के खिलाफ लूट का मुकदमा दर्ज कर प्रत्याशी को गिरफ्तार भी कर लिया है।

सुलतानपुर के धनपतगंज ब्लॉक प्रमुख पद के लिए सपा प्रत्याशी नीलम कोरी का नामांकन कराने पहुंचीं जिला पंचायत अध्यक्ष ऊषा ङ्क्षसह व उनके प्रतिनिधि शिवकुमार ङ्क्षसह, जिपं सदस्य कमला यादव पर ब्लॉक परिसर से निकलते वक्त भाजपा नेता चंद्रभद्र ङ्क्षसह सोनू के भाई यशभद्र ङ्क्षसह मोनू अपने प्रत्याशी संगीता कोरी में तकरार हो गई और लोग नीलम कोरी पर टूट पड़े। गोलियां तड़तड़ाने लगीं। भगदड़ मच गई। जिपं अध्यक्ष के गनर ऊषा ङ्क्षसह व उनके पति को अपने घेरे में लेकर बाहर वाहनों की ओर भागे। सुरक्षित निकालकर धनपतगंज से एसपी आवास आ पहुंचे। इस बीच वहां ईंट-पत्थर चले। जिपं अध्यक्ष के पति शिवकुमार ङ्क्षसह ने आरोप लगाया है कि चंद्रभद्र ङ्क्षसह सोनू की ओर से चलाई गई गोली उनकी गाड़ी में जा धंसी। देर शाम तक कोई मुकदमा दर्ज नहीं हुआ है।

अपहरण की कोशिश

श्रावस्ती में हरिहरपुररानी ब्लॉक में सपा व बसपा समर्थकों में भिडं़त हो गई। सपा समर्थकों ने बसपा उम्मीदवार मधु सत्या के अपहरण की कोशिश की। विरोध पर पथराव के साथ कई राउंड फायङ्क्षरग की गई। प्रस्तावकों व समर्थकों को पीटा गया। वाहनों पर पथराव कर क्षतिग्रस्त कर दिया गया। सिरसिया ब्लॉक में भी जमकर बवाल हुआ। भाजपा प्रत्याशी रामअवतार चौधरी के नामांकन पत्र को छीन कर सपा प्रत्याशी व समर्थक फरार हो गए। विरोध में भाजपाइयों ने धरना-प्रदर्शन कर जाम लगा दिया।

उपद्रव जैसी स्थिति

अंबेडकरनगर के रामनगर विकास खंड में नामांकन से पहले बसपा प्रत्याशी इंद्रावती का पर्चा छीनने से उपद्रव जैसी स्थिति बनी। पुलिस और प्रशासन के साथ धक्का मुक्की के अलावा भीड़ ने पथराव भी किया। वहीं, अवध क्षेत्र के तीन मंडलों लखनऊ, फैजाबाद व देवीपाटन की 185 ब्लाक प्रमुख सीटों पर 85 सीटों पर निर्विरोध निर्वाचन तय है। यहां की 100 सीटों पर चुनाव होंगे। निर्विरोध चुने जाने वाले ज्यादातर प्रत्याशी सपा के हैं। इसमें उन्नाव जिला शामिल नहीं है।

यहां भी हालात बिगड़े

इलाहाबाद जिले के 20 ब्लाकों में बड़ी संख्या में नामांकन पत्र दाखिल हुए। करछना विकास खंड में सपा और बसपा कार्यकर्ताओं में मारपीट के साथ पथराव भी हुआ। बसपा विधायक दीपक पटेल भी पार्टी समर्थित प्रत्याशी के समर्थन में पहुंचे थे, लेकिन हंगामा होने पर निकल गए। किसी पक्ष ने तहरीर नहीं दी है। चाका ब्लाक में भी सपा और बसपा कार्यकर्ताओं में धक्का-मुक्की हुई। प्रतापगढ़ जिले के 17 ब्लाकों में नामांकन हुआ। इसमें से सात ब्लाकों में सिर्फ एक प्रत्याशी ने ही नामांकन किया। इनका निर्विरोध निर्वाचन तय हो गया। इनमें कुंडा में कैबिनेट मंत्री रघुराज प्रताप ङ्क्षसह समर्थक संतोष ङ्क्षसह, कालाकांकर में रघुराज प्रताप समर्थक बीएन ङ्क्षसह, गौरा में पूर्व मंत्री शिवाकांत ओझा के बेटे पूर्णांशु ओझा, शिवगढ़ में शिवाकांत ओझा समर्थित भानुमती, संग्रामगढ़ में प्रमोद तिवारी समर्थित पूजा देवी कश्यप व सांगीपुर में प्रमोद समर्थित अशोक ङ्क्षसह शामिल रहे। कौशाम्बी जिले के आठ ब्लाकों में हुए नामांकन में कौशाम्बी और नेवादा में एक-एक ही प्रत्याशी ने ही नामांकन किया। शेष छह में सत्ता पक्ष के समर्थित प्रत्याशियों ने चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन किया।

सपा के बागी भी सिरदर्द

गोरखपुर-बस्ती मंडल में कुल 98 पदों में से 34 पदों पर सपा के उम्मीदवार निर्विरोध चुन लिए गए। बाकी 64 पदों पर सात फरवरी को मतदान होगा। गोरखपुर में 19 पदों में सात, बस्ती में कुल 14 में पांच, देवरिया में 16 में दो, कुशीनगर में 14 में आठ, सिद्धार्थनगर में 14 में आठ और महराजगंज जिले में 12 में चार पदों पर सपा उम्मीदवार निर्विरोध हो गये। संतकबीर नगर जिले में सभी नौ सीटों पर सपा के अधिकृत प्रत्याशियों के विरोध में सपा के बागी ताल ठोक कर मैदान में है।

पूर्वांचल में भी सपा का परचम वाराणसी, आजमगढ़, मऊ, बलिया, गाजीपुर, जौनपुर, मीरजापुर, भदोही, चंदौली और सोनभद्र जिलों में ब्लाक प्रमुखों के 128 पदों में सपा के लगभग 50 प्रत्याशियों के सामने प्रतिद्वंद्वी न होने से उनके निर्विरोध चुने जाने का रास्ता साफ हो गया। वाराणसी के आठ ब्लाकों में से बड़ागांव से सुमन पासवान, पिंडरा से पूजा और चोलापुर से मीतेंद्र तथा सुभाष सगे भाई प्रत्याशी हैं।

सपा प्रमुख मुलायम सिंह के संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ के 22 विकास खंडों में पल्हनी से वन मंत्री दुर्गा प्रसाद यादव के भाई के पौत्र रन्नू यादव, अतरौलिया से कैबिनेट मंत्री बलराम यादव के करीबी गुलाब चंद्र और बिलरियागंज से रमेश यादव के सामने कोई उम्मीदवार नहीं है। मेंहनगर में वन मंत्री दुर्गा प्रसाद यादव के भांजे डा. कैलाश यादव व उनकी पत्नी कुमकुम यादव ने पर्चा भरा है।

मऊ के नौ ब्लाकों में फतहपुर मंडाव से ब्लाक प्रमुख पद के प्रत्याशी रामाश्रय यादव की पत्नी मुनिया ने बगैर अनुमोदक के नामांकन दाखिल किया है। यहां से भी ऐश्वर्या यादव का निर्विरोध निर्वाचन तय है। आजमगढ़ मंडल के तीसरे जिले बलिया में तो सपा कार्यकर्ताओं ने जमकर जश्न मनाया। 17 क्षेत्र पंचायतों में से दस में सपा प्रत्याशी अकेले उम्मीदवार हैं। विकासखंड सोहांव से भाग्यमनी देवी, बेलहरी से अर्चना तिवारी, चिलकहर से ललिता देवी, गड़वार से विद्यावती देवी, नवानगर से सुधा यादव, पंदह से साधना पांडेय, मनियर से राजेंद्र प्रसाद, बैरिया से सोनी और दुबहड़ से ज्ञानेंद्र राय गुड्डू का ब्लाक प्रमुख बनना तय है। रसड़ा एकमात्र ब्लाक है जहां से बसपा समर्थित देवकी देवी कोई प्रतिद्वंद्वी न होने के कारण निर्विरोध चुनी जाएंगी।

उधर, गाजीपुर के 16 ब्लाकों में छह पर सपा उम्मीदवारों के सामने कोई दूसरा नहीं है। मरदह ब्लाक से निधि मौर्या, जखनिया से किरन सिंह, सैदपुर से संजू देवी, बिरनो से प्रवीण कुमार यादव, कासिमाबाद से श्याम नारायण राम और सादात से कमलेश सिंह उर्फ हकारू के जीत के घोषणा होने की औपचारिकता ही पूरी होनी है।

जौनपुर के 21 ब्लाकों में सपा के आठ प्रत्याशी बरसठी से हीरावती, सरकोनी से वीना सरोज, केराकत से सरिता सिंह, मुगराबादशहपुर से बृजलाल यादव, मछलीशहर से अशोक यादव, करंजाकला से दीपचंद सोनकर तथा खुटहन से सरयू देवी का जितना तय है। रामनगर ब्लाक से अरविन्द सिंह निर्दल प्रत्याशी में उनके मुकाबले में भी किसी ने नामांकन नहीं किया।

भदोही के छह ब्लाकों में ज्ञानपुर, अभोली, डीघ और भदोही समेत चार में केवल एक-एक नामांकन हुआ है। यह सभी सपा उम्मीदवार हैं। मीरजापुर के 12 विकास खंडों में से सीखड़ से ममता सोनकर और मझवां से संध्या देवी सपा की प्रत्याशी हैं। अकेले होने के कारण इनका निर्विरोध निर्वाचन तय है। सोनभद्र के आठ में से चार ब्लाकों में से चोपन से बबली, दुद्धी से अनिल ङ्क्षसह गौड़, बभनी से राजमति देवी और म्योरपुर से सरिता यादव का निर्विरोध चुना जाना तय है।

चंदौली के नौ ब्लाकों में से चार पर सपा प्रत्याशी निर्विरोध जीतेंगे। इनमें चंदौली से भगवानी दासी, बरहनी में रामानंद सिंह, चहनियां में शीला सोनकर और धानापुर से आशा यादव शामिल हैं।

झांसी जनपद की 8 ब्लॉक प्रमुख सीट पर क्लीन स्वीप का तानाबाना बुन रही समाजवादी पार्टी ने 6 सीटों पर सफलता प्राप्त कर ली है। इन सीटों पर 1-1 प्रत्याशी का ही नामांकन दाखिल होने पर निर्विरोध निर्वाचन तय माना जा रहा है। बामौर ब्लॉक में 5 दावेदारों के सामने आने पर कड़े घमासान की स्थिति बनती नजर आ रही है, जबकि चिरगांव सीट पर भी पार्टी प्रत्याशी को पार्टी के ही बागी ने नामांकन दाखिल करते हुए चुनौती दे दी है। जिलाध्यक्ष सुदेश पटेल ने बताया कि चिरगांव सीट पर प्रयास किए जा रहे हैं कि पार्टी द्वारा घोषित प्रत्याशी के पक्ष में नाम वापस करा दिया जाए। अगर ऐसा नहीं होता है तो रामनरेश के विरुद्ध निष्कासन की संस्तुति करते हुए प्रदेश नेतृत्व को अवगत कराया जाएगा।

पुलिस व पीएसी की मौजूदगी में अपहरण

कानपुर देहात के झींझक व मलासा ब्लाक में बवाल के चलते दहशत का आलम रहा। झींझक में सपा के घोषित प्रत्याशी के समर्थकों ने पथराव व फायङ्क्षरग कर पुलिस व पीएसी की मौजूदगी में विरोधी दावेदार रेनू शर्मा को अगवा कर लिया और देर शाम नामांकन का समय समाप्त होने पर छोड़ दिया। वहीं सपाइयों ने मीडियाकर्मियों से अभद्रता की और कांग्रेस के पूर्व विधायक के भाई पूर्व प्रधान को पीटकर मरणासन्न कर दिया। इधर मलासा में सपाइयों ने असलनापुर गांव के सामने नामांकन कराने जा रही बह्मनौती की प्रेमकांती सचान व बिदखुरी की मनोज कुमारी सचान के प्रपत्र छीनकर फाड़ दिए। उनके मोबाइल तथा मौके पर पहुंचे मीडिया कर्मियों के मोबाइल फोन व कैमरे भी छीन लिए। उन्नाव में गंजमुरादाबाद, फतेहपुर चौरासी, सफीपुर, औरास और असोहा ब्लाक में सत्तादल के उम्मीदवारों का निर्विरोध निर्वाचन तय है। सुमेरपुर, बीघापुर, सिकंदरपुर करण, पुरवा, बिछिया, हिलौली, नवाबगंज, बांगरमऊ, हसनगंज में सत्ता दल के बागियों ने ही घोषित उम्मीदवारों की साइकिल को रोक दिया। फर्रुखाबाद में राजेपुर से सपा प्रत्याशी डा.सुबोध यादव, कायमगंज से गुड्डी देवी, नवाबगंज से बिहार के सांसद पप्पू यादव की बहन डा.अनीता रंजन व बढ़पुर में पूर्व विधायक उर्मिला राजपूत की पुत्रवधू उर्मिला के खिलाफ कोई नामांकन न होने के कारण निर्विरोध निर्वाचिन तय हो गया है। उरई के माधौगढ़ विकास खंड में बीडीसी अकल राजपूत का नामांकन पत्र सपा समर्थकों ने फाड़ डाला, हालांकि बाद में अकल ने दूसरा सेट दाखिल किया। वहीं डकोर से तेजपाल ङ्क्षसह यादव, जालौन से तिलक ङ्क्षसह जाटव व कोंच से ऐन्द्र कुमार निर्विरोध ब्लाक प्रमुख बन गए।

इटावा में सपा का जलवा

सपा प्रमुख मुलायम ङ्क्षसह यादव के गृह जिला इटावा में ब्लाक प्रमुख चुनाव की नामांकन प्रक्रिया में बसरेहर से सपा प्रमुख के बहनोई डा. अजंट ङ्क्षसह यादव सैफई से उनके भतीजे की बहू मृदुला यादव, जसवंतनगर से अनुज मोंटी यादव, भरथना से हरीओम यादव तथा ताखा से उर्मिला कठेरिया के समक्ष किसी ने नामांकन दाखिल नहीं किया। इससे आठ ब्लाकों में पांच पर सपा के ब्लाक प्रमुख निर्विरोध चुनना तय है। फर्रुखाबाद, बांदा, हमीरपुर, हरदोई, कन्नौज, औरैया, फतेहपुर, चित्रकूट तथा महोबा में भी नामांकन प्रक्रिया सकुशल संपन्न हुई।

अमरोहा की छह सीटें सपा के खाते में

मुरादाबाद के आठ ब्लाकों नामांकन शांतिपूर्वक निपटा। रामपुर के छह ब्लॉकों में तेरह नामांकन दाखिल हुए। इनमें सैदनगर ब्लॉक से महज मोहम्मद आरिफ का नामांकन हुआ। अमरोहा में सभी छह सीटें सपा के खाते में जाना तय हो गया है। जोया, अमरोहा, धनौरा व गंगेश्वरी में सपा प्रत्याशी को छोड़कर किसी अन्य ने नामांकन ही नहीं किया जबकि गजरौला में सपा की ओर से ही पति-पत्नी ने व हसनपुर में सपा के दो प्रत्याशियों ने नामांकन कराया था, इनमें सुमन आर्य का पर्चा खारिज होने से माया देवी का निर्वाचन तय है। गजरौला में बसपा समर्थित प्रत्याशी वीरेंद्र ङ्क्षसह ने पुलिस पर पर्चा न भरने देने का आरोप लगाया, उनके समर्थकों ने शोरशराबा भी किया। सम्भल के आठ ब्लॉकों में से छह पर चुनाव निर्विरोध हुआ। दो ब्लॉक सम्भल व पंवासा में मतदान होगा। सम्भल में पूर्व ब्लॉक प्रमुख नरेंद्र ङ्क्षसह की पत्नी कुसुम देवी ने भाजपा से तथा सपा जिलाध्यक्ष फिरोज खां के भाई आरिफ खां ने नामांकन कराया। पंवासा से सपा प्रत्याशी शुऐब खान के अलावा दो निर्दल ने नामांकन किया।

दबंगों ने मारपीट की

अलीगढ़ में क्षेत्र पंचायत प्रमुख की 12 सीटों में से चार पर निर्विरोध फैसला हो गया। दो सीटें सपा, एक भाजपा व एक बसपा ने जीती है। सपा से स्नेह जादौन ने धनीपुर और उर्मिला ने बिजौली से बाजी मारी। बसपा की किरण देवी ने चंडौस से जीत दर्ज की। भाजपा के केहरी सिंह ने अतरौली ब्लॉक पर जीत हासिल की है। चुनाव में गुडागर्दी भी खूब हुई। गंगीरी ब्लॉक में पर्चा भरने पहुंचीं मधु देवी व उनके प्रस्तावक के साथ दबंगों ने मारपीट की। नामांकन पत्र फाड़ दिए। उन्होंने छर्रा थाने में तहरीर दी है।

हाथरस में सात ब्लॉक में 14 प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र दाखिल किए। हाथरस व सिकंदराराऊ में निर्विरोध चुनाव तय है।

यहां भी सपा फायदे में

मैनपुरी के नौ में से छह, फीरोजाबाद के नौ में से छह, आगरा के 31 ब्लॉकों में से पांच एटा-कासगंज के 15 ब्लॉकों में चार प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित हो चुके हैं। आगरा के खंदौली, शमसाबाद, बाह, जैंतपुर और बिचपुरी में सपा प्रत्याशी विजयी रहे। फीरोजाबाद में फीरोजाबाद, शिकोहाबाद, नारखी, टूंडला, एका और हाथवंत ब्लॉक में साइकिल जमकर दौड़ी। एटा के जलेसर, जैथरा, शीतलपुर और कासगंज के सहावर ब्लॉक में विजेंद्र कुमार के ही नामांकन हुए।

मुजफ्फरनगर में मोरना और चरथावल ब्लाक में एक-एक उम्मीदवार होने से निर्विरोध चुना जाना तय है। शामली ब्लाक में मुन्नी देवी का और सहारनपुर में बलियाखेडी ब्लाक में निर्विरोध निर्वाचन तय है। सहारनपुर में बाकी 10 विकास खंडों में 31 लोगों ने नामांकन किए। बिजनौर में 11 ब्लाको के लिए 24 ने नामांकन किए हैं। अफजलगढ़, नूरपुर और स्योहारा में सपा प्रत्याशियों का निर्विरोध चुना जाना तय है। नजीबाबाद में सपा प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे अवधेश के खिलाफ बीडीसी सदस्य के अपहरण का मुकदमा दर्ज हुआ है। दोपहर बाद अवधेश और उसके समर्थकों पर जानलेवा हमला हुआ। इस पर सदर विधायक रूचिवीरा और नूरपुर लोकेंद्र चौहान ने तीखा आक्रोश जाहिर कर रिपोर्ट दर्ज करने की मांग की। मेरठ में शुक्रवार को 12 ब्लाक प्रमुखों के चुनाव के लिए 28 नामांकन पत्र भरे गए। रोहटा, रजपुरा, मेरठ, माछरा में निर्विरोध निर्वाचन तय है।

Posted By: Ashish Mishra