लखनऊ(जागरण संवाददाता)। पीजीआइ क्षेत्र में उतरेटिया रेलवे स्टेशन के आउटर पर मंगलवार देर रात बाइक सवार बदमाशों की पुलिस से मुठभेड़ हो गई। मुठभेड़ के दौरान दोनों ओर से फायरिंग हुई। इसबीच पैर में गोली लगने से एक बदमाश मौके पर गिर गया। जबकि भाग रहे उसके दूसरे साथी को पुलिस ने दौड़ाकर दबोच लिया।

घायल बदमाश की पहचान विक्की उर्फ अजय उर्फ विक्रम सिंह निवासी बरेली फतेहगंज पूर्वी के रूप में हुई। एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक, मंगलवार देर रात इंस्पेक्टर पीजीआइ रवींद्र राय पुलिस बल के साथ उतरेटिया रेलवे स्टेशन के आउटर पर सेवई गाव की रेलवे क्रासिंग के पास चेकिंग कर रहे थे। इस बीच नहर पुल के पास उन्होंने बाइक सवार दो युवकों को रोकने का प्रयास किया तो वह भागने लगे। पुलिस ने पीछा किया तो उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी फायरिंग में पुलिस ने भी गोलिया चलाई। इस बीच बाइक चला रहे बदमाश के पैर में घुटने के नीचे गोली लग गई। जिससे वह गिर पड़ा। यह देख उसका साथी बाइक से कूदा और भागने लगा, तो पुलिस ने उसे दौड़ाकर दबोच लिया। घायल बदमाश की पहचान विक्की उर्फ अजय उर्फ विक्रम सिंह निवासी बरेली फतेहगंज पूर्वी के रूप में हुई। पकड़ा गया उसका साथी आशियाना के देवी खेड़ा निवासी सुमित मैसी है। विक्की उर्फ अजय 25 हजार का इनामिया है।

उसने छह जून को सीओ कैंट आफिस के पास लूट के विरोध में बीएसएफ के डिप्टी कमाडेंट मारुति शरण पाडेय को गोली मारी थी। गोली उनके हाथ में दाहिने हाथ के पंजे में लगी थी। जिससे वह घायल हो गए थे। मुठभेड़ की सूचना पर आइजी रेंज सुजीत कुमार पाडेय, एएसपी नार्थ अनुराग वत्स, सीओ कैंट तनु उपाध्याय मौके पर पहुंचे। पुलिस ने बदमाश विक्की के पास से एक तमंचा, दो खोखे और एक कारतूस बरामद किया। वहीं, सुमित के पास से भी तमंचा और दो कारतूस बरामद किए हैं। दोनों के खिलाफ लूट, फिरौती और अन्य अपराधिक वारदातों के मामले दर्ज हैं। घायल विक्की का अस्पताल में इलाज चल रहा है। लूट के विरोध पर बीएसएफ के डिप्टी कमाडेंट को मारी थी गोली:

दोनों बदमाशों ने बीते छह जून की रात सीओ कैंट आफिस के पास लूट के विरोध में बीएसएफ के डिप्टी कमाडेंट मारुति शरण पाडेय को गोली मार दी थी। दाहिने हाथ के पंजे में गोली लगने से वह गंभीर रूप से घायल हो गए थे। डिप्टी कमाडेंट बिहार के किशनगंज में तैनात हैं। वह पवनपुरी तेजी खेड़ा के रहने वाले थे। उनके भाई आरके पाडेय सेना में मेजर हैं। दोनों भाई बाइक से इको गार्डेन के पास रहने वाले रिश्तेदार के घर से लौट रहे थे। इस बीच मारुति शरण पाडेय ने सीओ कैंट के ऑफिस के पास बाइक रोकी और लघुशका करने लगे। इस बीच पीछे से आए बाइक सवार दो युवकों ने मारुति शरण की पर्स लूटने का प्रयास किया था।

यह देख पास खड़े मेजर आरके पाडेय बदमाशों की ओर दौड़े और उन्होंने एक बदमाश को दबोच लिया और उसे जोरदार थप्पड़ मारा। इस पर बदमाश का साथी भी उनसे भिड़ गया, तबतक मारुति शरण भी आ गए और उन्होंने बदमाश के साथी को पकड़ लिया। बदमाशों ने जब खुद को फंसता देखा तो वह धक्का देकर भागने लगे। चंगुल से छूटे बदमाशों को पकड़ने के लिए जब दोनों भाई दौड़े तो विक्की ने उन पर फायर झोंक दिया। दाहिने हाथ में गोली लगने से मारुति शरण पाडेय घायल हो गए। सूचना पर आलमबाग पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस घायल मारुति को क्षेत्र स्थित अजंता हॉस्पिटल लेकर पहुंची। वारदात को अंजाम देकर भागे बदमाश विक्की और उसका साथी सैनी सीओ कैंट ऑफिस के पास लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए थे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस