लखनऊ, जेएनएन। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को राजधानी की बटलर पैलेस कॉलोनी में राज्य संपत्ति विभाग के अति विशिष्ट अतिथि गृह 'नैमिषारण्य' का उद्घाटन किया। इसके निर्माण से राज्य सरकार को अपने अतिथियों को रुकवाने में किसी का मुंह नहीं देखना पड़ेगा। इसके साथ ही अब सरकार के धन की भी बड़ी बचत होगी।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह राज्य सरकार के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। अभी तक राज्य सरकार के अतिथियों को लखनऊ के होटलों में रुकवाना पड़ता था। ऐसे में यदि होटल पहले से बुक होते थे तो हमें अन्य विकल्पों पर विचार करना पड़ता था। अब ऐसा संकट नही रहेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों, राज्यपालों, केन्द्रीय मंत्रियों के रुकने की यहां व्यवस्था होगी। उत्तर प्रदेश भारत की आध्यात्मिक ऊर्जा का केन्द्र बिन्दु है। भारत की आत्मा उत्तर प्रदेश में बसती है। उन्होंने कहा कि इसलिए हमने इस अतिथि गृह का नामकरण नैमिषारण्य किया है। इससे यहां आने वाले मेहमान पवित्र तीर्थ स्थल नैमिषारण्य जाने के लिए भी प्रेरित होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसी भवन या संपत्ति को खड़ा कर देना या बना देना बहुत महत्व की बात नहीं है जरूरी यह है कि उसका अच्छा रखरखाव किया जाए। उन्होंने राज्य संपत्ति विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि वह इस नवनिर्मित अति विशिष्ट अतिथि गृह के व्यवस्थित संचालन के लिए कार्य योजना बनाकर उसे आगे बढ़ाएं। उन्होंने कहा कि इस अतिथि गृह के बगल में बनी झील यहां आने वाले मेहमानों के लिए नैमिषारण्य की भौतिक उपस्थिति प्रस्तुत करेगी। उन्होंने बटलर पैलेस कॉलोनी में बनी इस झील को भी उसके प्राकृतिक रूप में संरक्षित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने बताया कि हरिद्वार में महाराज भगीरथ के नाम से उत्तर प्रदेश का राज्य अतिथि गृह बनाया जा रहा है। बद्रीनाथ में भी अतिथि गृह बन रहा है। इस कार्यक्रम में राज्यसभा सदस्य, अशोक वाजपेयीकानून मंत्री ब्रजेश पाठक, नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन, महापौर संयुक्ता भाटिया, जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह, मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी और मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव शशि प्रकाश गोयल भी मौजूद थे। 

Edited By: Dharmendra Pandey