लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर ने बेहद भयानक रूप ले लिया है। सूबे में लगभग रोज हजार से अधिक नए संक्रमित सामने आ रहे हैं। कोरोना वायरस संक्रमण की दूरी लहर प्रदेश में कहर बरपा रही है। प्रदेश में बीते 24 घंटे में 12787 संक्रमित लोगों में इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूॢत गोविंद माथुर भी शामिल हैं। इससे पहले बलिया में मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला और मुरादाबाद के जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह संक्रमण की चपेट में आए थे।

प्रयागराज में स्वरूप रानी मेडिकल कालेज के प्राचार्य डॉक्टर एसपी सिंह ने बताया कि कोरोना वायरस की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद से जस्टिस गोविंद माथुर होम आइसोलेशन में हैं। उन्होंने कुछ दिनों पहले ही मेडिकल कालेज परिसर में टीका लगवाया था। प्रयागराज के पूर्व सांसद श्यामाचरण गुप्ता का इसके कहर से निधन हो गया, जबकि योगी आदित्यनाथ सरकार में मंत्री बलिया के आनंद स्वरूप शुक्ला तथा मुरादाबाद के जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह भी इसके संक्रमण में हैं। लखनऊ के बलरामपुर हास्पिटल के निदेशक, लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के चिकित्सा अधीक्षक के साथ ही किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के सौ से अधिक डॉक्टर व पैरामेडिकल स्टाफ संक्रमित है।

मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला कोविड पॉजिटिव, तेजी से बढ़ रहा संक्रमण :योगी आदित्यनाथ सरकार में संसदीय कार्य व ग्राम्य विकास राज्यमंत्री आनंद स्वरूप  शुक्ला कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। यह जानकारी उन्होंने स्वयं ट्वीट करके दी है। कोरोना के लक्षण दिखने पर उन्होंने गुरुवार को जांच कराई जिसकी रिपोर्ट शुक्रवार को मिली।

पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद राज्यमंत्री ने खुद को आइसोलेट कर लिया है। उन्होंने अपील भी की है कि पिछले दिनों जो भी उनके संपर्क में आए हैं वे अपनी जांच करा लें। क्षेत्रीय भ्रमण के दौरान आधा दर्जन से अधिक गांवों में आयोजित होली मिलन समारोह में उन्होंने शिरकत की है।

भाजपा राज्यसभा सदस्य हरिद्वार दुबे कोरोना पॉजिटिव: ताजनगरी आगरा में भाजपा से राज्यसभा सदस्य हरद्वार दुबे कोरोना पॉजिटिव हैं। भाजपा नेता हरिद्वार दुबे को सांस लेने में दिक्कत होने पर निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां पर जांच के दौरान उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उनको इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। अब उनके स्टाफ के साथ परिवार के लोगों का कोविड टेस्ट होगा। 

मुरादाबाद के डीएम संक्रमित: कोरोना बचाव वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके डीएम राकेश कुमार सिंह शुक्रवार को संक्रमित पाए गए। उन्हेंं पहली डोज 11 फरवरी और दूसरी 16 मार्च को लगाई गई थी। जिले में शुक्रवार को कुल 113 अन्य संक्रमित भी मिले हैं। वर्तमान में सक्रिय मरीजों की संख्या 511 पहुंच चुकी है। सीएमओ डा एमसी गर्ग का कहना है कि वैक्सीनेशन के बाद भी एहतियात जरूरी है, अन्यथा संक्रमित हो सकते हैं। वैक्सीनेशन के बाद संक्रमित होने पर मामूली नजला, जुकाम और बुखार आता है, हालात गंभीर नहीं होते हैं।

लखनऊ में बड़ी संख्या में चिकित्सक व पैरामेडिकल स्टाफ संक्रमित: डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान लखनऊ के चिकित्सा अधीक्षक डॉ विक्रम सिंह समेत मेडिसिन के एक अन्य डॉक्टर भी कोरोना वायरस पॉजिटिव हैं। इन दोनों ने भी वैक्सीन की दोनों डोज ली थी। दोनों डॉक्टर संक्रमित होने के बाद होम आइसोलेशन में गए।

बलरामपुर अस्पताल के निदेशक डॉ राजीव लोचन भी कोरोना वायरस के संक्रमण में हैं। उनको संजय गांधी पीजीआइ के कोविड हास्पिटल में भर्ती कराया गया है। बलरामपुर हॉस्पिटल के निदेशक डॉ राजीव लोचन समेत सात डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव हैं। यहां पर सीएमएस डॉ एके गुप्ता, अधीक्षक डॉ हिमांशु चतुर्वेदी के साथ पांच ईएमओ कोरोना पॉजिटिव हैं। इतनी बड़ी संख्या में चिकित्सकों के संक्रमित होने के बाद से बलरामपुर चिकित्सालय में ओपीडी बंद की गई है। लखनऊ में डफरिन अस्पताल की प्रमुख चिकित्सा अधीक्षिका डा सुधा वर्मा समेत अस्पताल के 40 लोग पॉजिटिव हैं। डॉ. सुधा वर्मा वैक्सीन की दोनों डोज ले चुकी हैं।

लखनऊ के डाक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी अस्पताल (सिविल) के चार और डॉक्टर्स डॉ दीपक कुमार चौधरी, डॉ राजेश श्रीवास्तव (हृदय रोग विशेषज्ञ), डॉ रश्मि शर्मा तथा डॉ राकेश सिंह कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में हैं। केजीएमयू के करीब सौ डॉक्टर व पैरामेडिकल स्टाफ के पॉजिटिव होने के बाद प्रबंधन ने 12 अप्रैल से ओपीडी बंद करने का फैसला किया है। यहां पर बेहद जरूरी विभाग की ही ओपीडी शुरू रहेगी। यहां पर इमरजेंसी सेवा चलती रहेगी। यहां के सीएमएस एसएन संखवार ने बढ़ते मामलों के कारण फैसला लिया है।

लविवि भी 15 अप्रैल तक बंद: लखनऊ में कोरोना संक्रमण से खराब होते हालात पर जिलाधिकारी की ओर से शिक्षण संस्थानों को बंद किए जाने के बुधवार के आदेश पर लखनऊ विश्वविद्यालय ने शुक्रवार को अमल किया। कुल सचिव विनोद कुमार सिंह ने शुक्रवार शाम को आदेश जारी कर 15 अप्रैल तक विश्वविद्यालय पूरी तरह बंद रखे जाने के निर्देश जारी किए हैं। इस आदेश के तहत हालात नियंत्रित होने तक विश्वविद्यालय व संबद्ध महाविद्यालयों की कक्षाएं ऑनलाइन माध्यम से संचालित की जाएंगी।

वाराणसी में बाबा दरबार में गर्भगृह प्रवेश पर रोक: श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर में अब श्रद्धालु सुबह छह से रात नौ बजे तक ही दर्शन कर पाएंगे। इसमें भी उन्हेंं गर्भगृह में प्रवेश नहीं मिलेगा । बाहर से ही झांकी दर्शन करना होगा। मंगला आरती में शामिल होने पर भी रोक रहेगी। कोरोना संक्रमण की बढ़ती गति को देखते हुए शुक्रवार को मंदिर प्रशासन ने यह निर्णय लिया है। इसे तत्काल प्रभाव से लागू करते हुए मंगला आरती के टिकट की बुकिंग भी अगले आदेश तक के लिए बंद कर दी गई है। मंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनील कुमार वर्मा के अनुसार कोरोना संक्रमण से बचाव के लिहाज से यह निर्णय लिया गया है। मंदिर में बिना मास्क किसी को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। शारीरिक दूरी का अनुपालन करना होगा।

नहीं मिलेगा संकट मोचन प्रभु का चरणामृत: कोरोना का तेज संक्रमण को देखते हुए संकट मोचन मंदिर में अब चरणामृत नहीं दिया जाएगा। माला फूल टोकरी में रखना होगा जिसे हर चार घंटे पर प्रभु को अॢपत किया जाएगा। महंत प्रो. विश्वंभरनाथ मिश्र ने बताया कि रात्रि कालीन कर्फ्यू को देखते हुए सुबह और रात की भी आरती में सिर्फ मंदिर के लोग शामिल होंगे। शारीरिक दूरी व मास्क का पहले से पालन कराया जा रहा है। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021