लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। नकल विहीन परीक्षा कराने के लिए उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) ने काम शुरू कर दिया है। इसके तहत बोर्ड ने 2021 की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा के लिए 312 स्कूलों को डिबार कर दिया है। इसमें 51 स्कूल ऐसे हैं जिनमें अनियमितता की गंभीर शिकायत मिली है। यूपी बोर्ड ने इन स्कूलों को हमेशा के लिए प्रतिबंधित कर दिया है।

यूपी बोर्ड ने पिछले साल 2020 में 433 स्कूलों को काली सूची में रखा गया था। जो स्कूल डिबार किये गए हैं उनमें पिछली परीक्षाओं में सामूहिक नकल, कापी, पेपर बदलने सहित तमाम अनियमितताएं मिलीं थीं।  यूपी बोर्ड ने अबकी सबसे अधिक अलीगढ़ के 60 स्कूल डिबार किए गए हैं। इसके अलावा फीरोजाबाद के 24, प्रयागराज के 17, प्रतापगढ़ के 14, मथुरा के 11, आगरा व गोरखपुर के 10-10 स्कूलों को केंद्र निर्धारण प्रक्रिया से बाहर किया गया है। इसके अलावा कई अन्य जिलों के स्कूलों को भी डिबार करके उसमें परीक्षा न कराने का निर्णय लिया गया है।

इस बार यूपी की बोर्ड परीक्षा कब से शुरू होगी अभी इस पर संशय बना हुआ है। चूंकि प्रदेश में पंचायत चुनाव मार्च होने हैं। हालांकि पंचायत चुनाव को लेकर अभी कोई विस्तृत कार्यक्रम जारी नहीं किया गया है। वहीं बोर्ड परीक्षा के लिए परीक्षा केंद्रों के निर्धारण में हो रही देरी भी इस संशय को और अधिक गहरा बना रहा है। इस बीच ने 10वीं और 12वीं कक्षाओं के लिए प्रैक्टिकल परीक्षाओं की डेटशीट जारी कर दी है। शैक्षणिक सत्र 2021 सत्र के लिए 12वींं की प्रैक्टिकल परीक्षाएं दो चरणों में आयोजित की जाएंगी। इसके तहत 3 फरवरी से 22 फरवरी तक प्रैक्टिकल परीक्षाएं होंगी।

यह भी पढ़ें : 'पहले आप' में फंसे पंचायत चुनाव और यूपी बोर्ड परीक्षा, स्कूल बनने हैं परीक्षा केंद्र और मतदान केंद्र भी

यह भी पढ़ें : यूपी बोर्ड के प्रैक्टिकल एग्जाम की तारीखें घोषित, तीन फरवरी से होंगे शुरू

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप