लखनऊ, जेएनएन। भारतीय जनता पार्टी के नवनिर्वाचित राज्यसभा सदस्य बृजलाल ने सोमवार को बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती पर तगड़ा पलटवार किया है। राज्यसभा सदस्य के रूप में शपथ लेने के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व पुलिस महानिदेशक बृजलाल ने लव जिहाद पर कानून बनाने पर मायावती के जल्दबाजी करने के बयान पर कहा कि दलित बेटियों की प्रताड़ना के मामले में आपको तुष्टीकरण शोभा नहीं देता है।

पुलिस की सेवा में चार बार राष्ट्रपति पदक प्राप्त करने वाले बृज लाल ने कहा कि बहन जी, लव जिहाद की शिकार दलित बेटियों की सिसकियां आपको व्यथित नहीं करती हैं। अब तो तुष्टिकरण की सियासत ने आपको बिल्कुल हृदयहीन कर दिया है। यह तो सत्य है कि लव जिहाद एवं अनुचित धर्मांतरण का सबसे बड़ा शिकार दलित वर्ग ही है। खैर, आप करिए तुष्टिकरण। योगी आदित्यनाथ जी के रूप में दलितों को सच्चा रहनुमा मिल गया है। उन्होंने कहा कि मायावती जी, आपकी जानकारी में ला दूं कि प्रदेश के दलित व पिछड़ी जातियों से आने वाली बेटियां सबसे ज्यादा लव जिहाद के निशाने पर हैं। आप इन दलित बेटियों के हक की बात करने के बजाए किसका साथ दे रही हैं।

उत्तर प्रदेश में मायावती की सरकार के कार्यकाल में पुलिस महानिदेशक रहे बृजलाल ने कहा कि कानून लागू करने से कानून बनाने में मेरी काफी भूमिका रही है। मायावती जी, देखा गया है कि लव जिहाद के अधिकतर मामलों में शिकार दलित और पिछड़ी जातियों की लड़कियां हुई हैं। पीड़ित तो ऐसा समाज है, जिसका आप खुद को मसीह समझती हैं। आप स्पष्ट कीजिए कि आप किसके साथ हैं। लव जिहाद से ने सबसे ज्यादा प्रदेश के दलितों और अति पिछड़ी जातियों को नुकसान पंहुचाया। इन्हेंं सुरक्षित माहौल प्रदान करना और उनकी पहचान को बचाना कैसे गलत हो सकता है। आपके इस ट्वीट के क्या मायने हैं मायावती जी। लव जिहाद में फंसकर सबसे ज्यादा दलित, पीड़ित  और अति पिछड़ी जाति के लोगों ने अपना न सिर्फ अपना मूल धर्म गंवाया बल्कि उनका अस्तित्व भी संकट में है। इन लोगों को सुरक्षा प्रदान करना क्या गुनाह है। आप बताइए मायावती जी किसके साथ हैं। उन्होंने कहा कि मायावती जी, क्या आपको पता है कि लव जिहाद से सबसे ज्यादा दलित, पिछड़े व अति पिछड़ी जातियां शिकार हुई हैं। क्या इन जातियों का भी सम्मान से जीने का हक नहीं है। आप बताइए कि आप किसके साथ हैं। 

यह भी पढ़ें: Love Jihad Law in UP: BSP मुखिया मायावती बोलीं- लव जिहाद कानून को लेकर यूपी सरकार ने की जल्दबाजी, अच्छा नहीं आपाधापी का फैसला

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021