लखनऊ, जेएनएन। UP Farmers Protest: नरेंद्र मोदी सरकार के कृषि संशोधन विधेयक के विरोध में उत्तर प्रदेश का भारतीय किसान यूनियन भी पंजाब व हरियाणा के किसानों के समर्थन में है। भारतीय किसान यूनियन उत्तर प्रदेश में हाई-वे पर चक्का जाम कर रहा है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलों में इसका बड़ा असर होने के कारण सभी जगह पर जिला तथा पुलिस प्रशासन बेहद मुस्तैद है। सभी जगहों पर बैरिकेडिंग की गई है, जबकि किसान सड़कों पर एकत्र हैं। 

मेरठ और उसके आसपास के कई जिलों में भारतीय किसान यूनियन ने अनिश्चतकालीन हड़ताल का ऐलान किया है। यूनियन ने मेरठ समेत वेस्ट यूपी के सभी हाईवे को शुक्रवार को जाम करने का ऐलान किया है। भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के आह्वान पर मेरठ जिले में कंकर खेड़ा बाईपास को जाम करने का ऐलान किया गया है। प्रदेश में किसानों के इस बड़े आंदोलन को लेकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हर जगह पुलिस तथा जिला प्रशासन सतर्क है। मेरठ में नेशनल हाइवे पर किसानों का चक्का जाम है। दिल्ली-दून हाइवे पर जिटोली गांव के पास जाम है। दिल्ली की ओर आने-जाने वाले वाहन रोके गए है। भाकियू नेता-किसानहाइवे पर धरना दे रहे है।

भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि भारतीय किसान यूनियन भी पंजाब तथा हरियाणा के किसानों के समर्थन में है। भारतीय किसान यूनियन का उत्तर प्रदेश में चक्का जाम का कार्यक्रम है। राकेश टिकैत ने कहा कि हमारा यूनियन तो पंजाब-हरियाणा के किसानों के साथ है। प्रदेश में वेस्ट उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में हाइवे जाम होगा। वेस्ट यूपी के दर्जनों जिलों के हाई-वे पर आज सिर्फ किसान हैं। मेरठ, मुजफ्फरनगर, बागपत, बिजनौर, बुलंदशहर के साथ ही आगरा व शामली में चक्का जाम है। हरियाणा व पंजाब में किसानों के बड़े आंदोलन के बाद से उत्तर प्रदेश का किसान भी इनके समर्थन में है। प्रदेश में सभी हाई-वे पर किसान जमे हैं। आज दिन में दो बजे प्रदेश के किसान आगे के आंदोलन पर बड़ा निर्णय लेंगे। सभी हाई-वे पर किसान इकट्ठा होकर निर्णय लेंगे। नरेश टिकैत के नेतृत्व में मुजफ्फरनगर में एनएच 58 के नावला कोठी पर चक्का जाम होगा। इसके साथ ही भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता बुलंदशहर में चक्का जाम करेंगे।

मेरठ में भी मेरठ-करनाल हाइवे रोड पर जाम लगाने के बाद यह कार्यक्रम अनिश्चित कालीन समय तक रहेगा। यहां के झिंझाना के गाड़ीवाले चौराहे पर भी चक्का जाम होगा। जिटोली में चक्का जाम के साथ कृषि संसोधन विधेयक के विरोध में प्रदर्शन भी होगा। यहां 15 स्थान पर अनिश्चितकालीन चक्का जाम रहेगा। यहां सभी किसान दिल्ली कूच न करने के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं। मेरठ में अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति ने पैदल मार्च कर कमिश्नरी पर प्रदर्शन किया। सुबह से ही मेरठ और आसपास के जिलों में किसानों की गतिविधियों पर पुलिस, प्रशासन की नजर रही। मुजफ्फरनगर में पदाधिकारी गांव में घूमकर ट्रैक्टर्स से सभी किसानों को लेकर कंकरखेड़ा बाईपास पर पर एकत्र होंगे। मुजफ्फरनगर में दिल्ली-देहरादून हाइवे पर भारतीय किसान यूनियन का चक्का जाम है। अन्नदाता सड़क पर उतर पड़े हैं। अनिश्चितकालीन आंदोलन के कारण सभी कार्यकर्ताओं को राशन और गर्म कपड़ों के साथ पहुंचने को कहा गया है। प्रदेश में किसानों के बड़े प्रदर्शन के कारण बिजनौर में यातायात बाधित है।

गौतमबुद्धनगर में किसानों को रोकने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात है। यहां नोएडा सेक्टर 14 ए का बॉर्डर छावनी में तब्दील हो गया है। दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर पुलिस तैनात है जबकि बॉर्डर पर बड़ी मात्रा में कंटीली बैरिकेडिंग भी लगाई गई है।

लखनऊ में अहिमामऊ-सुलतानपुर रोड चक्का जाम

प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी आज भारतीय किसान यूनियन का चक्का जाम है। अहिमामऊ सुलतानपुर रोड पर चक्का जाम कार्यक्रम को लेकर जिला तथा पुलिस प्रशासन बेहद मुस्तैद है। प्रशासन ने किसान नेता हरनाम सिंह वर्मा सहित दो सौ लोगों को किसान भवन नौबस्ता कला थाना चिनहट में रोक लिया है। इसके बाद भी किसान यहां से अहिमामऊ जाने को तैयार हैं। सभी का कहना है कि अगर पुलिस किसानों को नहीं जाने देगी तो गिरफ्तारी देंगे। 

यह भी देखें: किसानों के प्रदर्शन पर भिड़े Punjab-Haryana के CM

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021