लखनऊ [अजय श्रीवास्तव]। पैरों में चप्पल, लोअर और नीली चेकदार कमीज पहने खुशीराम की तलाश हर नजर को थी। हर अफसर आते ही पूछता विजय बहादुर (खुशीराम) कहां हैं।

  

चौक चौराहे से कुछ कदम आगे ठेले पर भेलपुरी बेचने वाले खुशीराम सोमवार सुबह से ही छा गए। उनकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं था। खुशीराम के नाम से मशहूर पटरी दुकानदार विजय बहादुर अधिकारियों से घिरे थे और उसे यह सब एक  सपने जैसा लग रहा था। जो पुलिस और नगर निगम वाले उन्हें ठेला हटाने की धमकी देते थे, वह आज उन्हें खुशीराम भाई संबोधित कर रहे थे। यह भी कहते कि कोई परेशानी हो तो हमें याद करना।

लंबे समय बाद इतना सम्मान पाकर खुशी से उनकी आंखें नम हो जातीं और वह बस यही कहते कि यह सब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कृपा से हुआ है। 10 हजार का लोन दिलाकर कोरोना काल में पटरी से उतरी उनकी जिंदगी को दौड़ाने का काम किया गया है।

 

नगर आयुक्त ने अपने मोबाइल से कराई बात

मंगलवार सुबह साढ़े 10 बजे पीएम मोदी अपने नई दिल्ली स्थित आवास से प्रधानमंत्री स्वनिधि ऋण योजना से लाभांवित पटरी दुकानदार खुशीराम से उनके भेलपुरी काउंटर पर बात करेंगे। इसके लिए सोमवार सुबह से देर शाम तक केंद्र सरकार के साथ ही प्रदेश सरकार के अधिकारियों से भी उनकी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बातचीत हुई। विजय बहादुर को प्रधानमंत्री से कैसे बात करनी है? इसका भी रिहर्सल किया गया। नेटवर्क में खराबी के कारण नगर आयुक्त अजय कुमार द्विवेदी ने अपने मोबाइल फोन से केंद्रीय सचिव से उनकी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कराई। शाम तक सब कुछ दुरुस्त हो गया था।

पत्नी और बच्चों को भी लाएंगे साथ

विजय के काउंटर के पास एक बड़ी स्क्रीन लगाई गई है, जिससे वह प्रधानमंत्री से संवाद करेंगे। काउंटर पर शाम से ही पुलिस का पहरा था। रात नौ बजे खुशीराम घर चले गए। बताया कि सुबह पत्नी और बच्चों के साथ आएंगे। हालांकि, इसके लिए उन्होंने नए कपड़े नहीं खरीदे हैं। लोअर और टी-शर्ट में ही प्रधानमंत्री से बात करेंगे।

आलमबाग की शशि से भी बात करेंगे पीएम

प्रधानमंत्री मंगलवार को देशभर के पटरी दुकानदारों से बात करेंगे। इनमें लखनऊ के दो पटरी दुकानदार शामिल हैं। नगर आयुक्त ने बताया कि पटरी दुकानदार विजय बहादुर ने लोन मिलने बाद अपने व्यवसाय को और बेहतर किया है। विजय के अलावा चंदरनगर में ठेले पर कपड़े बेचने वाली शशि एनआइसी के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कक्ष से मंगलवार को प्रधानमंत्री से बात करेंगी। 30 वर्षीय शशि आलमबाग के रामनगर में सिंधी स्कूल के पीछे रहती हैं। उनके पति धर्मेंद्र भी ठेले पर कपड़े बेचते हैं। शशि कहती हैं कि यह सौभाग्य की बात है कि उन्हें प्रधानमंत्री से बात करने मौका मिल रहा है।

18 सवाल पूछ सकते हैं पीएम

प्रधानमंत्री पटरी दुकानदारों से 18 सवाल पूछ सकते हैं। इनमें प्रधानमंत्री स्वनिधि ऋण योजना की जानकारी कैसे हुई? लोन मिला या नहीं, जैसे सवाल होंगे।

होगा सीधा प्रसारण

नगर निगम के त्रिलोकनाथ हॉल में मंगलवार सुबह प्रधानमंत्री और पटरी दुकानदारों के बीच संवाद का सीधा प्रसारण होगा। इसमें महापौर के अलावा लखनऊ के विधायक, पार्षद और पटरी दुकानदारों को भी बुलाया गया है। एक बड़ी स्क्रीन भी लगाई गई है।

ये है योजना

कोरोना काल में आर्थिक तंगी का सामना कर रहे पटरी दुकानदारों के लिए प्रधानमंत्री स्वनिधि ऋण योजना शुरू की गई है। इसमें 10 हजार का ब्याज रहित लोन दिया जाता है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस