लखनऊ, जेएनएन। Lucknow Weather Update: मानसून के जोर पकडने की उम्मीद है अगले पांच-छह दिन प्रदेश में कहीं हल्की तो कहीं तेज बारिश का सिलसिला जारी रहेगा। राजधानी लखनऊ में भी शुक्रवार को बादलों की आवाजाही के बीच बौछारें पड़ सकती हैं। आंचलिक मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक जेपी गुप्ता बताते हैं कि यूपी से होकर मॉनसून की ट्रफ लाइन गुजर रही है। साथ ही पूर्वी उत्तर प्रदेश में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। जिसके चलते प्रदेश में मानसून जोर पकड़ेगा। कहीं हल्की तो कहीं तेज बारिश का सिलसिला अगले 5-6 दिन जारी रहने की उम्मीद है।

गुरुवार को राजधानी में अधिकतम तापमान सामान्य के मुकाबले 1.63 अधिक 37.4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। वहीं न्यूनतम तापमान सामान्य के करीब 27.4 डिग्री सेल्सियस रहा। वायुमंडल में आद्रता 95 फीसद के करीब बनी हुई है यही वजह है कि जबरदस्त को उमस महसूस की जा रही है।

सीतापुर में ठंडी हवा के साथ बारिश ने दी राहत 

जिले में सुबह से ही आसमान में बादल छाए रहे। ठंडी हवा भी चली। शहर में हल्की बूंदाबांदी भी हुई, जबकि ग्रामीण अंचलों में कुछ स्थानों पर अच्छी बरसात भी हुई है। इससे आमजन को गर्मी व उमस से कुछ हद तक राहत मिली है। सुबह जिले का अधिकतम तापमान 32 डिग्री सेल्सियस तथा न्यूनतम तापमान 27  डिग्री सेल्सियस तथा नमी 77 प्रतिशत रिकॉर्ड की गई।

बलरामपुर में पहाड़ी नाला खरझार में उफान, दस गांव पानी से घिरे 

नेपाल के पहाड़ों पर हुई बारिश से पहाड़ी नाला खरझार में पुन: बाढ़ आ गई है। जिससे तटवर्ती दस गांव पानी से घिर गए हैं। सहिबानगर, रामगढ़ मैटहवा, सुगानगर लहेरी, औरैया, हरिहरनगर, दांदौ समेत दस गांव पानी से घिर गए है। रामगढ़ मैटाहवा व साहिबानगर गांव में पानी भर गया है। सड़क पर तीन से चार फ़िट पानी बह रहा है। घरों में भी पानी घुस गया है। जिससे राशन समेत अन्य सामान भीगने से ख़राब हो गया है। ग्रामीणों को पारेशानी का सामना करना पड़ रहा है। गौरा-तुलसीपुर मार्ग स्थित दतरंगवा व सिंघवापुर डिप पर चार फीट पानी बह रहा है। जिससे वाहनों का आवागमन प्रभावित है। एडीएम अरूण कुमार शुक्ल ने बताया कि नेपाल के पहाड़ों पर बारिश होने से खरझार नाला में तेज बहाव के साथ पानी आ जाता है। बाढ़ से बचाव के लिए एसडीआरएफ ज़िले में मुस्तैद है। उधर,  बहराइच के पयागपुर और कैसरगंज तहसील क्षेत्र में हल्की बारिश हुई है।

अंबेडकरनगर में काली घटाओं का डेरा

जिले में सुबह भी आसमान पर काली घटाओं का डेरा है। हालांकि, दिन चढ़ने के साथ धूप छांव का सिलसिला शुरू हो गया। इससे पारा चढ़ने लगा और उमस से लोगों को परेशानी हो रही है। वहीं, धान की रोपाई के लिए बारिश का पानी मिलने से किसानों में खुशी है। जिले का तापमान अधिकतम 32 और न्यूनतम तापमान 26 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। मौसम विभाग ने आगामी सप्ताह में काले बादलों की आवाजाही के बीच बारिश होते रहने का अनुमान लगाया है।

रायबरेली : आसमान में छाए बदल, बढ़ी उमस

जिले में शुक्रवार को सुबह से ही आसमान में बादल छाए रहे हैं। इससे गर्मी के साथ ही उमस बढ़ गई है। सूरज और बादल के बीच लुकाछिपी ने उमस बढ़ा दी है।

जून में टूटा तीन-चार सालों का रिकॉर्ड 

जून में इस बार बीते तीन-चार सालों के मुकाबले अच्छी बारिश रिकॉर्ड की गई है। उत्तर प्रदेश में 30 जून तक सामान्य 95 मिलीमीटर बारिश के मुकाबले 139.9 मिलीमीटर बारिश हुई, जबकि बीते वर्ष मात्र 37 मिलीमीटर बारिश ही 30 जून तक दर्ज की गई थी। मानसून का पहला महीना जून पूर्वी उत्तर प्रदेश को सबसे ज्यादा भिगो के गया। पूर्वी उत्तर प्रदेश में सामान्य के मुकाबले 215.7 फीसद अधिक बारिश हुई। प्रदेश के इस हिस्से में सामान्य तौर पर जून माह में 119.7 मिलीमीटर बारिश होती है, लेकिन इस वर्ष 258.1 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई है। सेंट्रल यूपी में 88.5 और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में 44.6 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई। देखा जाए तो पश्चिमी उत्तर प्रदेश में प्रदेश में अभी तक सबसे कम बारिश हुई है। 

 

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस