लखनऊ, जेएनएन। UP Coronavirus Positive Case चीन से फैले जानलेवा कोरोना वायरस के संक्रमण का कहर समूचे विश्व को अपनी जद में ले चुका है। भारत में यह स्टेज टू से थ्री की ओर बढ़ने को है। ऐसे में केंद्र के साथ राज्य सरकार ने कमर कर ली है। देश तथा भर में 21 दिन के लॉकडाउन के बीच उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के पॉजिटिव की संख्या बढ़ती जा रही है। 

लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज से गुरुवार को सैंपल की रिपोर्ट जारी हुई है, उसमें चार केस पॉजिटिव है। इनमें तीन नोएडा और एक आगरा में मरीज पाया गया है। इस तरह से अब उत्तर प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव की संख्या बढ़कर 43 हो गई है। बुधवार तक 39 थे। अब तक सर्वाधिक 14 नोएडा में और उसके बाद नौ आगरा में  कोरोना वायरस के मरीज पाए गए।

किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज में बुधवार को 97 सैंपल की जांच की गई, जिसमें चार में कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट है। इनमें नोएडा की 21 वर्षीय युवती, 33 वर्षीय महिला तथा 39 वर्षीय पुरुष हैं। इनमें 21 वर्षीय युवती के माता-पिता भी पॉजिटिव है। कोरोना वायरस से संक्रमित तीन और नए मरीज नोएडा में पाए गए हैं इस तरह नोएडा में अब तक कुल 14 लोगों में कोरोना वायरस पाया गया है। 

ताजनगरी में एक और कोरोना संक्रमित मिल गया है। शहर के एक चिकित्सक का बेटा 20 मार्च को अमेरिका से दुबई होकर आया था। उसमें गुरुवार को कोरोना वायरस का संक्रमण होने की पुष्टि हुई है। इसका सैैंपल जांच के लिए केजीएमयू लखनऊ भेजा गया था। पूर्व में शहर में जूता कारोबारी के पांच स्वजनों सहित आठ लोग कोरोना संक्रमित पाए जा चुके हैैं। इनमें सात स्वस्थ हो गए हैैं।  एक युवती का उपचार एसएन मेडिकल कॉलेज में चल रहा है।

प्रदेश में अब तक कोरोना वायरस से संक्रमित सर्वाधिक 14 लोग नोएडा में पाए गए हैं। आगरा में नौ लखनऊ में आठ, गाजियाबाद-तीन, पीलीभीत व बागपत में दो-दो तथा लखीमपुर खीरी, मुरादाबाद, वाराणसी, कानपुर, जौनपुर और शामली में एक-एक व्यक्ति इस वायरस से संक्रमित पाए जा चुके हैं। नोएडा में जिन तीन लोगों में कोरोनावायरस की पुष्टि हुई है, उनका कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है। उनके पेरेंट्स कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे और उन्हें से उनसे ही संक्रमण हुआ है। जो तीन लोग पॉजिटिव पाए गए हैं, उनमें 21 और 33 वर्षीय दो महिला और एक 39 साल का पुरुष शामिल है। सभी को नोएडा में ही भर्ती कराया गया है। नोएडा में कोरोना का प्रकोप बढ़ रहा है। शहर के अब तक 14 लोगों में इसकी पुष्टि हो चुकी है।

लखनऊ में एसजीपीजीआई लखनऊ के सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर सुजीत कुमार ने बताया कि लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज तथा हमारे संस्थान में भर्ती कोरोना वायरस पॉजिटिव सभी की शारीरिक स्थिति ठीक है। हम पिछले छह दिनों से घर नहीं गए हैं। हम अपने कर्तव्य पालन में लगे हैं। हम सभी की अच्छी तरह से देखभाल में लगे हैं। हमारे यहां हमारी टीम में नर्सिंग स्टाफ दिन-रात लगा है।

इससे पहले प्रदेश में बुधवार को कोरोना वायरस से संक्रमित दो और व्यक्ति मिले। इनमें एक पीलीभीत का, जबकि एक बागपत का था। कोरोना वायरस से संक्रमित होने के लक्षण पाए जाने पर बुधवार को प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में 73 मरीजों को भर्ती कराया गया। प्रदेश में अभी तक कोरोना वायरस के 1830 संदिग्ध मरीजों के नमूने जांच के लिए भेजे जा चुके हैं। इनमें से 1707 की रिपोर्ट निगेटिव पाई गई है, जबकि 85 लोगों की जांच रिपोर्ट का इंतजार है। कोरोना वायरस से संक्रमित 11 मरीज स्वस्थ होकर घर वापस जा चुके हैं जिनमें सात आगरा, दो गाजियाबाद और एक- एक नोएडा व लखनऊ के हैं । प्रदेश के हवाई अड्डों पर अब तक 26369 यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। नेपाल से सटे प्रदेश के जिलों में बनाए गए बॉर्डर चेक पोस्टों पर अब तक 1546443 लोगों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है।

पीलीभीत में मां के बाद बेटा भी पॉजिटिव

पीलीभीत में मक्का से उमरा कर लौटी महिला में पहले ही कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई थी। अब उनके बेटे में भी कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। हालांकि परिवार से जुड़े तीन अन्य लोगों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है।

बागपत में दुबई से लौटा था युवक

बागपत में कोरोना से संक्रमित युवक दुबई से लौटा था। वह 19 मार्च को वापस आया था और खुद को घर पर ही आइसोलेट कर लिया था। तबीयत ज्यादा खराब होने पर युवक खुद ही मंगलवार सुबह जिला अस्पताल पहुंच गया था। मेरठ सीएमओ डा. राजकुमार ने बताया कि युवक की कोरोना की जांच रिपोर्ट स्क्रीनिंग में पॉजिटिव आई है।

आइडीएच कानपुर से भागे तीन कोरोना संदिग्ध युवक

कानपुर में कोरोना वायरस पॉजिटिव का संदेह होने पर हैलट के संक्रामक रोग अस्पताल (आइडीएच) में भर्ती तीन युवक भाग गए। इसकी जानकारी होते ही खलबली मच गई। सीएमओ ने पुलिस को इसकी सूचना दी। तीन में से दो युवकों के नमूने जांच के लिए लखनऊ भेजे गए हैं, जबकि तीसरे दिन युवक को बुखार होने पर संदिग्ध मानकर आइडीएच भेजा गया था। दक्षिण अफ्रीका से लौटे कल्याणपुर के शिव विहार निवासी कटियार के 29 वर्षीय पुत्र को आइडीएच में मंगलवार की दोपहर भर्ती कराया गया था। इसके अलावा महाराजपुर थाना के सरसौल निवासी शुक्ल का 30 वर्षीय पुत्र भी यहां मंगलवार को भर्ती कराया गया। इसकी केस हिस्ट्री में कोरोना संक्रमित व्यक्ति के साथ रहने का जिक्र है। बेहद संवेदनशील मानते हुए देर रात दोनों युवकों का नमूना लेकर केजीएमयू लखनऊ भेजा गया। बुधवार सुबह दोनों युवक अस्पताल से भाग गए।

सुबह जब सीएमएस डॉ. अनूप शुक्ला ने आइसोलेशन वार्ड का निरीक्षण किया तो दोनों के भागने की जानकारी हुई। उन्होंने हैलट पुलिस चौकी को सूचना दी। इसके अलावा बुधवार को औरैया से दिखाने आए योगेंद्र सिंह सेंगर को जुकाम और बुखार होने पर कोरोना का संदिग्ध मानते हुए आइडीएच भेजा गया था, जहां से वह भी भाग गया। वहीं सीएमओ डॉ. अशोक शुक्ला का कहना है कि युवकों के भागने की सूचना पुलिस और प्रशासन को दे दी गई है। यदि पुलिस-प्रशासन युवकों को नहीं पकड़ पाता है तो उनके खिलाफ गुरुवार को मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। वहीं, स्वरूप नगर के थाना प्रभारी अश्विनी कुमार पांडेय का कहना है कि तीनों युवकों के भागने की जानकारी मिली है। संबंधित थाना क्षेत्रों को उनके भागने की सूचना दे दी गई है। युवक अभी तक पकड़े नहीं गए हैं। 

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस