मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

लखनऊ, जेएनएन। ऐशबाग निवासी 11वीं की छात्रा को उसके घरवालों ने पढ़ाई करने से मना कर दिया। इस बात की जानकारी जब उसकी सहेली को हुई तो उसने घरवालों को समझाने की कोशिश की, लेकिन किसी ने उसकी एक न सुनी। बस फिर क्या था सहेली का भविष्य अंधकारमय न हो, इसके लिए उसने बीड़ा उठाया और उसे साथ लेकर सीधे एसएसपी आवास पहुंच गई। यह हौसला किसी बड़े उम्र की युवती का नहीं बल्कि 19 साल की सना का उठाया गया सराहनीय कदम है।

यह है मामला 

ऐशबाग निवासी आलमीन डीएवी कॉलेज में 11वीं की छात्रा है। आलमीन का आरोप है कि उनके घरवाले उन्हें पढ़ाई करने से रोक रहे हैं और घर से बाहर निकलने पर पाबंदी लगा दिया है। पढ़ाई पूरी न हो सके इसके लिए फीस देना बंद कर दिया। आलमीन ने इसकी जानकारी 12वीं की छात्रा और अपनी सहेली सना को दी। सना ने अपने पास से आलमीन की फीस जमा की।

आरोप है कि इस बात की जानकारी जब आलमीन के घरवालों को हुई तो उन्होंने उसे स्कूल जाने से मना कर दिया और बात नहीं मानने पर जान से मारने की धमकी देने लगे। मामला बढ़ता देख रविवार को सना आलमीन को लेकर एसएसपी आवास पहुंची और तहरीर देकर शिकायत की। इसके बाद दोनों को बाजारखाला कोतवाली भेजा गया, जहां आलमीन के घरवालों को बुलाकर पुलिस ने फटकार लगाई। आलमीन ने खुद को बालिग बताते हुए दसवीं की मार्कशीट दिखाई। इसके बाद पुलिस ने आलमीन को सना के साथ उसके घर भेज दिया। पुलिस का कहना है कि दोनों पक्षों को बुलाकर समझाया गया है। छानबीन की जा रही है।

 

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप