लखनऊ, जेएनएन। राजधानी में एक हिस्ट्रीशीटर की 25 वर्षीय नव विवाहिता का शव संदिग्ध हालात में खून से लथपथ मिला। चार महीने पहले ही उसकी शादी हुई थी। धमाके की आवाज सुनकर सास बहू के बेडरूम में पहुंची। फर्श पर चारों तरफ खून बिखरा देख उनके होश उड़ गए। पास ही अवैध पिस्टल पड़ी थ्‍ाी। कनपटी में लगी गोली आर-पार थी। एसएसपी कलानिधि नैथानी के मुताबिक, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। 

27 फरवरी को हुई थी शादी 

मामला चिनहट के मटियारी गांव का है। यहां के निवासी विमल यादव से जूली पुत्री प्रेमनाथ यादव की 27 फरवरी को शादी हुई थी। विमल चिनहट थाने का हिस्ट्रीशीटर है, जिस पर कई मुकदमे दर्ज हैं। बताया जा रहा है कि बीते शनिवार को मृतका जूली मायके से आई थी। पुलिस के मुताबिक, बुधवार को दिन में करीब चार बजे गोली लगने से मौत की सूचना मिली। छानबीन में मकान के पहले तल पर बेडरूम के फर्श पर जूली का शव पड़ा था। शव के पास एक अवैध पिस्टल पड़ी थी। गोली जूली के कनपटी में लगी थी, जो आर-पार हो गई थी। पूछताछ में विमल ने बताया कि वह घर पर नहीं था। परिवारीजन ने गोली चलने की आवाज सुनकर उसे फोन कर जानकारी दी थी। घर जाने पर कमरे के भीतर जूली मृत मिली।

 

खून से लथपथ पड़ी थी जूली 

विमल की मां का कहना है कि बहू जूली सुबह से ही परेशान थी। कुछ देर उनके पास बैठने के बाद वह छत पर चली गई। बिजली नहीं होने के कारण उन्होंने उसे टोका भी था कि नीचे ही रहो ऊपर गर्मी होगी, लेकिन उसने उनकी बात को अनसुना कर दिया। कुछ देर बाद तेज आवाज हुई तो उन्हें लगा कि जूली शायद छत पर गिर गई है। छोटे बेटे को लेकर वह कमरे में पहुंची तो जूली फर्श पर खून से लथपथ पड़ी थी। पुलिस ने शव के पास से बरामद अवैध असलहे को कब्जे में ले लिया है। साथ ही विमल, उसकी मां और परिवार के अन्य सदस्यों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। 

विमल के पिता की हुई थी हत्या 

स्थानीय लोगों ने बताया कि कई वर्ष पहले विमल के पिता वीरेंद्र यादव की कुछ लोगों ने हत्या कर दी थी। वह परिवहन विभाग में तैनात थे। पिता की हत्या का बदला लेने के लिए विमल ने भी वर्ष 2009 में चंदन सिंह नाम के युवक की हत्या कर दी थी। इंस्पेक्टर चिनहट के मुताबिक, विमल पर पांच मुकदमे दर्ज हैं। परिवारीजनों की तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। आरोपित के पास से लाइसेंसी असलहा भी जब्त कर लिया गया है।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Divyansh Rastogi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप