जेएनएन, लखनऊ। कुंभ पर मंडरा रहे आतंकी खतरे को भांपते हुए सुरक्षा एजेंसियों ने अपनी निगरानी बढ़ा दी है। आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) की नजरें करीब 50 संदिग्ध आतंकियों पर टिकी हैं, जिनके बारे में प्रयागराज में काम कर रहीं फील्ड यूनिट छानबीन कर रही हैं। खासकर उनके प्रयागराज कनेक्शन खंगाले जा रहे हैं। ऐसे संदिग्ध आतंकियों को चिह्नित करने का प्रयास किया जा रहा है, जिनकी प्रयागराज या आसपास के जिलों में गतिविधियां रही हैं। 

एनएसजी कमांडो टीम भी रहेगी मुस्तैद 

आतंकी खतरे के दृष्टिगत कुंभ क्षेत्र में एनएसजी की भी एक कमांडो टीम मुस्तैद रहेगी। खासकर हेलीकॉप्टर के जरिये मेला क्षेत्र की निगरानी की भी योजना है। शासन एयर फोर्स अथवा बीएसएफ का हेलीकॉप्टर हासिल करने के लिए केंद्र सरकार के जरिये प्रयास कर रहा है। उल्लेखनीय है कि बीते दिनों कानपुर में हिजबुल मुजाहिदीन का आतंकी कमरुज्जमा पकड़ा गया था लेकिन, उसके दो साथी अब तक पकड़े नहीं जा सके हैं। दोनों कानपुर से बचकर भाग निकले थे। कमरुज्जमा व उसके दोनों साथी कानपुर में गणेश उत्सव के दौरान आतंकी हमला करने के इरादे से आए थे। कुंभ मेले में आतंकियों के साधु वेश में घुसपैठ करने की आशंका पहले ही जताई जा चुकी है। इसे लेकर अलर्ट भी जारी किया गया था।

दो साल में 20 संदिग्ध आतंकी पकड़े

एटीएस ने पिछले दो सालों में करीब 20 संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया है। एटीएस की नजर उससे जुड़े रहे अन्य संदिग्धों पर भी है। इन सभी के मूवमेंट नए सिरे से खंगाले जा रहे हैं। यही वजह है कि कुंभ मेला के दौरान एनएसजी कमांडो की टीम के साथ एटीएस की दो स्पॉट (स्पेशल पुलिस ऑप्रेशन्स टीम) दस्ते भी मुस्तैद रहेंगे। एक स्पॉट दस्ते में 54 कमांडो होंगे। बताया गया कि एनएसजी के करीब 30 कमांडो मेला क्षेत्र की निगरानी करेंगे। स्पॉट टीम में फाइटर के साथ बम विशेषज्ञ, श्वान दल व स्नाइपर भी होंगे। आइजी एटीएस असीम अरुण ने बताया कि कुछ स्पॉट फाइटर बाइक पर भी मुस्तैद होंगे ताकि किसी सूचना पर वे भीड़भाड़ के बीच तेजी से मौके पर पहुंच सकें।

स्पीड बोट पर भी होंगे फाइटर 

एटीएस के फाइटर स्पीड बोट पर सवार होकर भी कुंभ की सुरक्षा में मुस्तैद रहेंगे। कुंभ पुलिस के 40 थानों पर एक क्यूआरटी (क्विक रिएक्शन टीम) भी नियुक्त होगी। उनका प्रशिक्षण एटीएस की स्वॉट (स्पेशल वैपन्स एंड टैक्टिसेस) द्वारा कराया जाएगा। प्रयागराज पुलिस भी अपनी स्वॉट टीम तैयार करेगी। उसमें शामिल पुलिसकर्मियों को स्पॉट में प्रशिक्षण कराया जाएगा।

संयुक्त अभिसूचना ग्रुप 

विभिन्न जांच एजेंसियों का एक संयुक्त अभिसूचना ग्रुप भी बनाया जा रहा है, जिस पर सूचनाओं का त्वरित गति से आदान-प्रदान किया जाएगा। कुंभ मेला क्षेत्र में कमांडो और क्यूआरटी का एक संयुक्त नियंत्रण कक्ष भी होगा, जिसके प्रभारी सीओ स्तर के अधिकारी होंगे।

Posted By: Nawal Mishra