जेएनएन, लखनऊ। विश्व हिंदू परिषद दिल्ली धर्मसभा की व्यापक तैयारियां जारी हैं। रविवार सुबह 11 बजे से होने वाली इस धर्म सभा में पश्चिम उत्तर प्रदेश से बड़ी संख्या में लोगों के पहुंचने की उम्मीद है। यहां पहुंचने वालों के लिए विविध स्तरों पर व्यापक व्यवस्था है। आने, जाने, बैठने के साथ ही हर रामभक्त के लिए भोजन पानी की व्यवस्था रहेगी। विहिप नेताओं ने शनिवार देर शाम तक एनसीआर के निकटवर्ती क्षेत्रों में रामभक्तों को धर्मसभा में चलने के लिए प्रेरित किया। इस बीच केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने मेरठ में कहा कि सरकार के भरोसे नहीं देश की सौ करोड़ जनता के पुरुषार्थ के बल पर ही राम मंदिर का निर्माण होगा। 

सुनाई देगी दिगग्ज संतों की वाणी

विहिप के क्षेत्र संगठन मंत्री करुणा प्रकाश ने बताया कि रामभक्तों की सुविधा के लिए सभा स्थल के आसपास लगभग दो-तीन किलोमीटर तक दर्जन भर से अधिक बड़ी-बड़ी एलईडी स्क्रीन लगाई जा रही हैं ताकि जो लोग किसी कारण सभा स्थल बने रामलीला मैदान तक न पहुंच पाएं तो जहां तक पहुंचे वहीं से संत वचन सुन सकें। जगह जगह भगवान राम के बड़े-बड़े चित्र व कलश भी रखे गए हैं जिनमें दिल्ली के रामभक्त अपने-अपने घरों लाए पुष्प अर्पुत कर सकेंगे। मेट्रो से आने वालों के लिए नई दिल्ली मेट्रो स्टेशन सर्वाधिक नजदीक होने से वहीँ पर उतरने को कहा गया है।

धर्मसभा में जुटेंगे दिग्गज नेता और संत

धर्मसभा को जूना अखाड़ा पीठाधीश्वर महामण्डलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी, श्रीजगन्नाथ पीठाधीश्वर जगद्गुरू रामानंदाचार्य स्वामी हंसदेवाचार्य महाराज, गीता मनीषी महामण्डलेश्वर स्वामी ज्ञानानंद महाराज, परमानंद महाराज, वात्सल्य ग्राम संस्थापक दीदी मां साध्वी ऋतंभरा, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश (भैयाजी) जोशी, विहिप के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे व कार्याध्यक्ष आलोक कुमार समेत संत व गणमान्य लोग संबोधित करने वाले हैं।

धर्मसभा में सभी रामभक्तों को भोजन-पानी 

धर्मसभा में आने वालों के लिए व्यापक व्यवस्था है। एनसीआर से आने वाली बसों व अन्य वाहनों के लिए 16 जगह पार्किंग केंद्र हैं। हर पार्किंग स्थलों पर पीने के पानी, शौचालय तथा अनाउन्समेंट सिस्टम होंगे। उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब से जुड़ने वाली राजधानी के सभी सीमाओं पर स्वागत द्वार बनाए जा रहे हैं। वहीँ पर सभी राम भक्तों के लिए भोजन व पानी के पैकेट दिए जाएंगे। जगह-जगह मार्ग-दर्शिका भी लगाई जा रही है।

Posted By: Nawal Mishra