लखनऊ(जेएनएन)। सिटी माटेसरी स्कूल की अलीगंज शाखा में शनिवार (11 अगस्त) को आठवीं की छात्रा से कथित तौर पर अश्लीलता का मामला रविवार को भड़क उठा। शाम करीब छह बजे अभिभावकों, पूर्व छात्रों व गैर सरकारी संगठनों ने स्कूल के बाहर प्रदर्शन व नारेबाजी करते हुए सड़क पर जाम लगा दिया। देर रात तक स्कूल के सामने, कुर्सी रोड व टेढ़ी पुलिया रोड पर बवाल होता रहा और पुलिस तमाशबीन बनी रही। प्रदर्शनकारी आरोपी छात्र पर कार्रवाई की माग कर रहे थे। अभिभावक पूरे प्रकरण में पुलिस की भूमिका से भी नाराज दिखे।

स्कूल के सामने से खदेड़े गए तो जाम कर दी कुर्सी रोड :

सीएमएस अलीगंज शाखा के सामने से खदेड़े जाने के बाद प्रदर्शनकारियों ने कुर्सी रोड जाम कर दी। इसके चलते राहगीरों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। सड़क पर हो रहे बावल को देखने के लिए लोग घरों से निकल आए। इस दौरान करीब डेढ़ घटे तक कुर्सी रोड पर जाम का माहौल रहा। इसके बाद भीड़ से अलग होकर छात्रों का एक गुट टेढ़ी पुलिया की ओर भी बढ़ा और सड़क जाम करने का प्रयास किया। बैनर और पोस्टर लगाने पर बढ़ा बवाल:

स्कूल के बाहर प्रदर्शन कर रहे लोगों द्वारा दीवार पर बैनर व पोस्टर लगाए जाने लगे। इस पर स्कूल प्रबंधन ने आपत्ति जताई। जिस पर माहौल और गर्मा गया। प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम कर दिया। इस दौरान मौके पर मौजूद पुलिस ने वहा से खदेड़ भगाया। तमाशबीन बनी रही पुलिस :

प्रदर्शन के शुरुआती दौर में तो सामाजिक संगठन, अभिभावक और कुछ छात्र ही शामिल रहे। गंभीर बात यह रही कि हंगामे और सड़क जाम के दौरान पुलिस भी मौके पर मौजूद रही, मगर तमाशबीन की तरह। स्कूल में आज छुट्टी :

मामले को बढ़ता देख स्कूल प्रबंधन ने अभिभावकों के मोबाइल पर 13 अगस्त छुट्टी की मैसेज भेज बंद कर दिया है। ये था मामला :

सीएमएस स्कूल की कक्षा आठ की छात्रा ने 11 अगस्त को सहपाठी पर अश्लीलता का आरोप लगाया था। मामले की जानकारी होते ही अभिभावक भड़क गए और उन्होंने प्रदर्शन शुरू कर किया। .तो एक गेम के तहत हुई छात्रा से अश्लीलता:

एक दिन पहले कक्षा आठ के दो बच्चों ने आपस में टु्रथ ऑर डेयर के तहत किसी बच्ची के ट्यूनिक की पीठ की जिप खोलने की शर्त लगाई थी। जिसको पूरा करने के लिए ही उस छात्र ने इस घटना को अंजाम दिया। जिसके बाद कक्षा तीन की उस छात्रा ने घर आकर इसकी शिकायत अपनी मा से कर दी। दूसरे दिन उस छात्रा के परिजन ने विद्यालय पहुंचकर प्रधानाचार्य से शिकायत की। इसके बाद संबंधित छात्र और उसके माता-पिता को प्रिंसिपल ऑफिस में बुलाया गया। जहा पर लड़की के पिता ने आक्रोश में आकर उस छात्र को दो थप्पड़ मार दिए।

इसी बात पर दोनों पक्षों में तकरार शुरू हो गई। लड़के के पिता ने कहा कि आपने मेरे बेटे को थप्पड़ मारकर अपराध किया है और इसके लिए मैं थाने में प्राथमिकी दर्ज कराऊंगा। यह सुनकर लड़की के पिता ने गुस्से में डॉयल 100 पर पुलिस को इसकी सूचना दे दी। इसके बाद दोनों पक्ष अलीगंज थाने पहुंच गए। इस घटना के बाद स्कूल प्रबंधन ने कक्षा आठ के छात्र को स्कूल से निष्कासित कर दिया। लेकिन किसी भी पक्ष ने इस संबंध में कोई लिखित शिकायत दर्ज नहीं कराई। छात्र के पिता ने सीओ को लिखित में माफीनामा दिया एवं लड़की के माता-पिता ने लिखित में दिया कि वे कोई अग्रिम कार्यवाही नहीं चाहते हैं। बेहद गंभीर बात है कि बिना प्रकरण की सच्चाई जाने कुछ एनजीओ तत्वों ने प्रदर्शन भी शुरू कर दिया, जो कि सही नहीं है।

Posted By: Jagran