लखनऊ[अंशू दीक्षित]। बिजली उपभोक्ताओं को बिल, मीटर एवं नए कनेक्शन की समस्या के लिए अब उपकेंद्रों के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। उपभोक्ता सीधे हजरतगंज स्थित लाप्लास में बनने जा रहे जनशिकायत केंद्र (सिंगल विंडो) में जाकर समस्या का समाधान पा सकेंगे। यहा काम करने वाले कर्मचारी आउट सोर्सिग से होंगे। हर समस्या एक निर्धारित तिथि में ठीक की जाएगी। उपभोक्ता ऑनलाइन भी आवेदन कर सकेंगे और उसका अपडेट अपना पासवर्ड डालकर वेबसाइट पर जाकर देख सकेंगे। यह सब दिसंबर 2018 से करने की योजना है। राजधानी में बिजली उपभोक्ताओं की संख्या 9.32 लाख है। उपभोक्ताओं की शिकायत रहती है कि उपकेंद्रों पर तैनात अभियंता समस्या का समाधान समय से नहीं करते। इसके मद्देनजर फिलहाल हजरतगंज स्थित लाप्लास में जनशिकायत केंद्र खोला जा रहा है। उपभोक्ता उपकेंद्र के अलावा यहा भी समस्या दर्ज करा सकेगा। यह शिकायत केंद्र जैसे-जैसे प्रचलित होता जाएगा, उसी अनुपात में उपभोक्ताओं की शिकायतें उपकेंद्रों पर लेनी बंद कर दी जाएंगी। मध्याचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (एमवीवीएनएल) के प्रबंध निदेशक संजय गोयल के मुताबिक ट्रासगोमती का जन शिकायत केंद्र गोमती नगर में खोला जाएगा। इन शिकायत केंद्र में काम करने वाले कर्मचारी आउटसोर्सिग से होंगे और इनकी मॉनीटरिंग के लिए नोडल अफसर वरिष्ठ स्तर के बिजली विभाग के अफसर बनाए जाएंगे। समय-समय पर होने वाली बैठकों में लंबित शिकायतों की मॉनीटरिंग हो सकेगी। यही नहीं अभियंताओं की जवाबदेही तय हो जाएगी। बेहतर आपूर्ति के लिए बिजली अभियंता कर सकेंगे काम:

अभी अभियंता नए कनेक्शन, बिल, मीटर से जुड़ी समस्याओं में ही उलडो रहते हैं। इस नए प्रयास से अभियंता बिजली आपूर्ति जहा बेहतर कर सकेगा, वहीं राजस्व बढ़ोतरी में योगदान दे सकेगा।

क्या कहते हैं अफसर?

एमडी (एमवीवीएनएल)संजय गोयल का कहना है कि लाप्लास की कंस्ट्रक्शन बिल्डिंग में जनशिकायत निवारण केंद्र खुलेगा। इस केंद्र में 9.32 लाख उपभोक्ताओं का पूरा डाटा होगा। भविष्य में ट्रास गोमती व सिस गोमती के शिकायत केंद्र अलग कर दिए जाएंगे।

By Jagran