लखनऊ (जेएनएन)। जिल्हिज का चांद कल देर रात हो गया। आज पहली जिल्हिज होगी। ईद उल अजहा यानी बकरीद का त्योहार 22 अगस्त को मनाया जाएगा।

शिया चांद कमेटी ने कल देर रात चांद का एलान कर दिया है, जबकि जिल्हिज के चांद को लेकर सुन्नी समुदाय दो भागों में बट गया है। काजी ए शहर मुफ्ती इरफान फरंगी महली ने चांद की तस्दीक न होने पर 23 अगस्त को बकरीद मनाने का एलान किया। तो वहीं मरकजी चांद कमेटी के अध्यक्ष मौलाना खालिद रशीद ने चांद होने के साथ 22 अगस्त को बकरीद मनाने का एलान किया है।

जिल्हिज का चांद देखने उलमा की टीम ऐशबाग ईदगाह कल शाम से ही दूरबीन लेकर आसमान में टकटकी लगाए रही, लेकिन चांद नजर नहीं आया। देर रात अन्य शहरों से चांद होने की तस्दीक के बाद मरकजी चांद कमेटी (सुन्नी) के अध्यक्ष मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने 29 का चांद होने के साथ 22 अगस्त को बकरीद मनाने का एलान कर दिया।

इसी तरह मरकजी शिया चांद कमेटी के अध्यक्ष मौलाना सैफ अब्बास ने भी सोमवार को पहली जिल्हिज होने के साथ 22 अगस्त को बकरीद का त्योहार मनाने का एलान किया है। वहीं काजी ए शहर मुफ्ती इरफान मिया फरंगी महली ने 30 के चांद के मुताबिक मंगलवार को पहली जिल्हिज होने के साथ 23 अगस्त को बकरीद मनाने का एलान किया। उन्होंने बताया कि रविवार को लखनऊ के साथ किसी भी शहर से चांद की तस्दीक नहीं हुई है। इसलिए 23 अगस्त को बकरीद होगी। 

By Dharmendra Pandey