मेरठ (जेएनएन)। भाजपा प्रदेश कार्यसमिति में पारित हुए राजनीतिक प्रस्ताव में अनुसूचित जातियों व पिछड़ों के सामाजिक-आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने का भी लक्ष्य रखा गया। जाति, धर्म के भेदभाव बिना सबका साथ-सबका विकास का लक्ष्य लेकर 2022 तक न्यू इंडिया बनाने का संकल्प लिया गया। स्पष्ट किया कि सरकार बनाने में भाजपा राष्ट्र निर्माण से समझौता नहीं करती। जम्मू-कश्मीर में जब पीडीपी ने राष्ट्र निर्माण में असहयोग किया तो समर्थन वापस ले लिया गया।

प्रदेश भाजपा कार्यसमिति के दो दिवसीय बैठक के दूसरे दिन रविवार को प्रस्ताव सत्र में मुख्यमंत्री समेत प्रदेश कार्यकारिणी के लगभग सभी सदस्य मौजूद थे। सत्र में अधिकांश राजनीतिक प्रस्ताव केंद्र और प्रदेश सरकार के कार्यों और योजनाओं की प्रशंसा के थे। इसमें कृषि, इन्वेस्टर्स समिट, आधारभूत ढांचा, शिक्षा, उद्योग, सहकारिता, कानून व्यवस्था, स्वास्थ्य व संस्कृति संरक्षण के क्षेत्र में किए गए कार्यों को गिनाया गया। भाजपा ने कहा कि कृषि क्षेत्र में किए गए कार्य से चौधरी चरण सिंह के सपनों को पूरा कर रहे हैं। बसपा व सपा पर प्रहार करते हुए कहा गया कि उनके समय में बोर्ड परीक्षा में नकल का उद्योग खड़ा हुआ था, जिसे योगी सरकार ने ध्वस्त कर दिया। अनुसूचित जातियों को निश्शुल्क बिजली कनेक्शन देने को डॉ. आंबेडकर के मिशन को आगे बढ़ाने का काम बताया। सपा-बसपा पर चोट करते हुए कहा कि इनके समय में अपराधी बेखौफ थे। अब वे जमानत रद करा दोबारा जेल जा रहे हैं। सुरक्षा सुनिश्चित होने से निवेश का माहौल बना है। अयोध्या में दीवाली, बनारस में देव दीवाली, मथुरा-बरसाना में होली मनाने को सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की भावना बढ़ाने और सांस्कृतिक धरोहर बचाने वाला कदम बताया गया। 

पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा व मुगलसराय का नाम पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर करने पर केंद्र सरकार का आभार जताया गया। अंत्योदय का लाभ पात्रों तक पहुंचने की बात कर दोनों सरकारों की तारीफ के पुल बांधे। भाजपा के खिलाफ एकजुट होने पर सपा, बसपा को अवसरवादी करार दिया।  

Posted By: Nawal Mishra