लखनऊ[ज्ञान बिहारी मिश्र]। पंजाब नेशनल बैंक की हजरतगंज शाखा स्थित एटीएम में छेड़छाड़ कर 31 ग्राहकों के खाते से जालसाजों ने महज तीन दिन में 7,21,918 रुपये निकाल लिए। यह जानकारी हजरतगंज स्थित बैंक के मुख्य प्रबंधक आशुतोष शर्मा ने पुलिस को दी है। हजरतगंज कोतवाली में तहरीर देकर उन्होंने आरोपितों के खिलाफ एफआइआर दर्ज कर उचित कार्रवाई की माग की है। सीओ हजरतगंज अभय कुमार मिश्र के मुताबिक, एफआइआर दर्ज कर मामले की जाच की जा रही है।

तहरीर के मुताबिक, बैंक में करीब 31 ग्राहकों ने शिकायत की है कि 21, 22 व 23 मई को पीएनबी की हजरतगंज शाखा स्थित एटीएम से कार्ड की क्लोनिंग की गई है। जालसाजों ने एटीएम में स्कीमर एक ऐसी डिवाइस जो डाटा चोरी करती है लगाए थे। प्रबंधक ने जालसाजों के खिलाफ चोरी, अपराधिक प्रय8 व आइटी एक्ट समेत अन्य आरोप लगाए हैं।

इन स्थानों से निकाले रुपये:

साइबर जालसाजों ने कार्ड की क्लोनिंग कर सबसे ज्यादा दिल्ली से रुपये निकाले हैं। इनमें लाजपत नगर, साउथ एक्स पार्ट वन, लाजपत नगर चार, नरायना, नेहरू प्लेस, शक्ति नगर एक्सटेंशन, मालवीय नगर, लाजपत नगर आइआइटी, न्यू मंगलापुरी, राजौरी गार्डेन, हौज खास एवं लाडो सराय समेत अन्य स्थान हैं।

खाली हाथ लौटी थी साइबर सेल:

साइबर क्राइम सेल मामले की पड़ताल के लिए दिल्ली भी गई थी। हालाकि बैंक की हड़ताल के कारण उन्हें संबंधित एटीएम के फुटेज नहीं मिल पाए थे, जहा से रुपये निकाले गए थे। पुलिस ने प्रारंभिक जाच में सुराग मिलने की बात कही थी, लेकिन तीन सप्ताह बीतने के बावजूद अभी तक उन्हें जालसाजी करने वाले गिरोह के बारे में कोई सफलता नहीं मिल पाई है। इनके खाते से निकले गए रुपये:

रिना गुप्ता - 8,500

राजेश कुमार - 20 हजार

नीरज पाठक - 25 हजार

निर्मला यादव - 25 हजार

ममता कुमारी - 25 हजार

अमित गुप्ता - 30 हजार

शिशिर कुमार मिश्र - 25 हजार

वेद प्रकाश सिंह - 25 हजार

मिथिलेश कुमारी - 17 हजार

रवि प्रकाश गौतम - 20 हजार

विजय लक्ष्मी - 25 हजार

विमल त्रिपाठी - 30 हजार

जगदीश कुमार - 10 हजार

नेहा कन्नौज - 25 हजार

अंकित उपाध्याय - पाच हजार

बाबु राम - 17 हजार

नारायन राय - 25 हजार

शहजाद खान - 14,500

राजीव कुमार - 24,500

रमेश चंद्र रस्तोगी - 70 हजार

शबनम - 25 हजार

किरन सिंह - 63 हजार

राजू यादव - 17 हजार

रवि कुमार सिंह - 10 हजार

देवेंद्र कुमार उप्रेती - 20 हजार

दीपमाला रायजादा - 57 हजार

इंदू देवी - 18 हजार

शिशिर कुमार मिश्र - 25 हजार

अभिषेक प्रताप सिंह - सात हजार

असद यार खान - 7,600 । पीड़ितों की सुनवाई नहीं :

बैंक की महज एक शाखा के ग्राहकों के खाते से सात लाख से अधिक रुपये उड़ाए जाने की बात उजागर होने के बाद से तमाम सवाल खड़े हो गए हैं। ट्रास गोमती के एटीएम से सैकड़ों लोगों के कार्ड की क्लोनिंग हुई है। खास बात यह है कि पीड़ितों की सुनवाई न तो पुलिस कर रही है और न ही बैंक।

By Jagran