लखनऊ, जेएनएन। राजधानी में पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू होते ही शुक्रवार को एक बड़ी घटना हो गई। शौच करने निकली 11 साल की एक मासूम बच्ची के साथ दुराचार किया गया। बच्ची उस दुराचारी को पहचान नहीं पा रही है। बच्ची के माता पिता जब कृष्णानगर थाना पहुंचे तो यहां भी उनको चार घंटे तक इंतजार करना पड़ा। परिवारीजनों का आरोप है कि पुलिस ने पीड़िता और उसके पिता को बदनामी का हवाला देकर चुप रहने की हिदायत दी। हालत बिगड़ने पर पुलिसिया कार्रवाई के बाद बच्ची को एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। 

घटना कृष्णानगर थाना क्षेत्र में 14 जनवरी की है। यह 11 वर्षीय बच्ची कृष्णानगर थाना क्षेत्र स्थित एक मुहल्ले में अपनी बुआ के साथ रहती है। एक निजी विद्यालय में कक्षा चार की छात्रा 14 जनवरी की सुबह घर से कुछ दूर स्थित एक खाली पड़े भूखंड में शौच के लिए गई थी। बच्ची को अकेला पाकर एक युवक ने उसके साथ दुष्कर्म किया। किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी देकर युवक वहां से भाग निकला। बच्ची रोते-बिलखते घर पहुंची। उसे डरी सहमी देख घरवालों के होश उड़ गए। बच्ची ने अपनी आपबीती बुआ को बताई।

बुआ मामले को दर्ज कराने थाना कृष्णा नगर पहुंची। परिवारीजनों का आरोप है कि स्थानीय पुलिस ने पीड़िता और उसके पिता को चुप रहने की हिदायत दी, जिसके बाद करीब चार घंटे तक पुलिस ने उसे बैठाए रखा। पुलिस ने मामला दर्ज करने के बाद बच्ची को एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया है। वहीं बच्ची से पूछताछ के आधार आरोपी के हुलिया से मिलते करीब तीन दर्जन लोगों के फोटो दिखाए गए हैं। हालांकि अब तक बच्ची उसकी पहचान नहीं कर सकी है। कृष्णानगर थाना प्रभारी राम कुमार यादव ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आरोपी युवक की तलाश की जा रही है।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस