लखनऊ। अयोध्या में बाबरी मस्जिद के लिए 54 साल से कानूनी लड़ाई लड़ रहे मुहम्मद हाशिम अंसारी भी भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के मुरीद हैं। उनका मानना है कि मोदी को प्रधानमंत्री बनने के लिए मुसलमानों के समर्थन की जरूरत है। उनके पक्ष में यह बात है कि गुजरात के मुसलमान खुशहाल और समृद्ध हैं। जबकि कांग्रेस मुस्लिमों में मोदी का भय पैदा करती है। अयोध्या में विवादित ढांचा ध्वंस की 21 वीं बरसी पर बाबरी मस्जिद के इस वयोवृद्ध पैरोकार की टिप्पणी के खास मायने हैं।

92 वर्षीय हाशिम ने कहा कि नरेंद्र मोदी को देश का प्रधानमंत्री बनने के लिए मुस्लिमों के पूर्ण समर्थन की जरूरत है। मोदी के प्रधानमंत्री बनने पर परिणाम भुगतने की बात कह कर कांग्रेस मुस्लिमों में भय पैदा कर रही है। 50 साल से ज्यादा समय तक मुस्लिमों ने कांग्रेस का समर्थन किया, लेकिन बदले में पार्टी से समुदाय को दंगों की सौगात मिली।

हाशिम ने सपा सरकार के मुस्लिम मंत्रियों पर भी निशाना साधा। हाशिम ने कहा कि राज्य के मुस्लिम मंत्री मौन साधे रहते हैं और पार्टी में उन्हें कोई रुतबा हासिल नहीं है। सपा सरकार भी रणनीति के तहत दंगों के जरिये मुस्लिमों को दबाने वाली कांग्रेस की राह पर चल रही है। सपा सरकार के सत्ता में आने के बाद से अब तक राज्य में सौ से अधिक दंगे व सांप्रदायिक वारदात हो चुकी हैं।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर