लखनऊ(जागरण संवाददाता)। वीमेन पॉवर लाइन चौराहे पर बालक की हत्या के मामले में पूरे प्रकरण की नए सिरे जाच की खबर दैनिक जागरण में प्रकाशित होने के बाद सोशल मीडिया पर एसएसपी कलनिधि नैथानी के पहल की सराहना हो रही है। इस मामले में एसएसपी का कहना है कि एएसपी पूर्वी सर्वेश कुमार मिश्र से वारदात की समीक्षा रिपोर्ट मागी गई है। सभी बिंदुओं पर गहनता से पड़ताल होगी और वास्तविकता को उजागर किया जाएगा। राष्ट्रपति के शुक्रवार को राजधानी में आगमन के मद्देनजर एसएसपी की ओर से इस बाबत कार्रवाई आगे नहीं बढ़ सकी। एसएसपी ने 1090 चौराहे पर लगे कैमरों से एकत्र की गई सीसीटीवी फुटेज देखी है। उन्होंने एएसपी पूर्वी से भी घटनाक्त्रम की जानकारी मागी थी। सूत्रों का कहना है कि इस वारदात में शामिल संदिग्ध बदमाश को पकड़ने के लिए क्राइम ब्राच की मदद भी ली जाएगी। उधर, गुरुवार को वरिष्ठ अधिकारियों ने मातहतों से जानकारी ली। बालिग या नाबालिग पर संशय :

हत्या के आरोप में जिस दिव्याग को पुलिस ने पकड़कर बालिग बताया था, उसने कोर्ट में खुद को नाबालिग बताया था। दिव्याग बालिग है अथवा नहीं, इसके बारे में छह जुलाई से लेकर अब तक पुलिस कोई ठोस सबूत नहीं जुटा पाई है। पुलिस सूत्रों का दावा है कि दिव्याग ने बाराबंकी से विकलाग सर्टिफिकेट बनवाया था, जिसमें उसकी उम्र दर्ज है। अब पुलिस उस सर्टिफिकेट का वेरिफिकेशन करा रही है। अनाथ नहीं है दिव्याग :

प्रारंभिक जाच में पुलिस ने आरोपित दिव्याग को अनाथ बताया था। हालाकि पड़ताल के दौरान पता चला कि आरोपित के घरवाले भी हैं, जो बाराबंकी में रहते हैं। वारदात के दिन आरोपित बाराबंकी में था, लेकिन पुलिस इससे इंकार कर रही है। दिव्याग के मोबाइल फोन की लोकेशन देवा क्षेत्र में मिली थी।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस