ललितपुर ब्यूरो :

'स्वच्छता की सेवा' पखवाड़ा अन्तर्गत बुधवार 26 सितम्बर को सहजाद नदी की तलहटी एवं बस स्टैण्ड परिसर में अफसरों के वाहनों का काफिला पहुँचा तो लोग समझ नहीं पाये कि आखिर माजरा क्या है। जब चमचमाती गाड़ियों से बाहर निकले अफसरों ने झाड़ू थामी और सफाई करना शुरू कर दिया तो आसपास के लोग भी हैरान रह गये। जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह समेत जनपद स्तरीय अधिकारियों ने उक्त स्थानों पर साफ-सफाई की। इतना ही नहीं लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक भी किया।

प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने केन्द्र की सत्ता में आते ही राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के जन्म दिन से देश भर में स्वच्छता अभियान की शुरूआत की थी। प्रधानमन्त्री के स्वच्छता अभियान को मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने भी आगे बढ़ाया। जनपद में भी स्वच्छता को लेकर जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह के निर्देशन में विशेष अभियान चलाया जा रहा है। अभियान के तहत शहर के वार्डाें का भ्रमण कर साफ-सफाई की जा रही है। इसी क्रम में 26 सितम्बर को सहजाद नदी की तलहटी व बस स्टैण्ड परिसर में 'स्वच्छता की सेवा' पखवाड़ा अन्तर्गत विशेष सफाई अभियान चलाया गया। जिलाधिकारी समेत 1 दर्जन से अधिक जनपद स्तरीय अधिकारियों के वाहनों का काफिला सुबह लगभग 7.30 बजे सहजाद नदी की तलहटी पहुँचा जहाँ जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने समय व्यतीत किये बिना ही हाथों में झाड़ू थामी और फिर सफाई अभियान शुरू हो गया। जिलाधिकारी, अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह, उप जिलाधिकारी सदर घनश्याम वर्मा समेत अन्य जनपद स्तरीय अधिकारियों ने भी झाड़ू थामी और साफ-सफाई में जुट गये। जगह-जगह फैली गन्दगी को एकत्रित किया गया और फिर उसे एकत्रित कर ट्रैक्टर ट्रॉली में डाला। यहाँ साफ-सफाई के बाद अफसरों के वाहनों का काफिला बस स्टैण्ड पहुँचा जहाँ नजारा देखकर आसपास के लोग घरों से बाहर निकल आये। यहाँ भी जिलाधिकारी समेत अन्य अफसरों ने सफाई अभियान शुरू कर दिया। बस स्टैण्ड पर जगह-जगह फैला कचरा साफ किया गया। अफसरों को जहाँ गन्दगी और कचरा दिखाई दिया झाड़ू लगाकर उसे साफ कर दिया। थोड़ी ही देर में चारों तरफ धूल के गुबार नजर आने लगे।

जिलाधिकारी ने अभियान की शुरूआत से लेकर आखिर तक झाड़ू थामे रखी और मैदान के चारों तरफ फैली गन्दगी और कचरा साफ किया। जिलाधिकारी को पसीने से तरबतर होता देख कुछ अफसरों ने सहानुभूति दिखाते हुये उनसे झाड़ू लेने का प्रयास किया, लेकिन वह नहीं माने और सफाई अभियान में लगे रहे। उन्होंने सफाई करने के अलावा कचरा उठाया और कंटेनर में भी डाला। जिलाधिकारी को लगातार सफाई करता देख अन्य अधिकारियों ने भी खूब पसीना बहाया और कचरा एकत्रित किया। पहले कचरे को एकत्रित किया गया और फिर उसके बाद कचरा भरकर पालिका के कंटेनर में भरा गया। लगभग डेढ़ घण्टा चले विशेष सफाई अभियान में जिलाधिकारी से लेकर अन्य अफसर धूल धूसरित हो गये। जब जिले के मुखिया समेत अन्य अधिकारियों द्वारा सफाई की जा रही थी उसी समय लोग घरों से बाहर निकलकर नजारा देख रहे थे। उन्हे यकीन ही नहीं हो रहा था कि जिलाधिकारी समेत पूरा प्रशासनिक अमला इस तरह उनके मुहल्ले में आकर झाड़ू लगायेगा। बहरहाल विशेष सफाई अभियान के बाद जब पूरा परिसर चकाचक हो गया तो अफसरों ने राहत की साँस ली। लगभग डेढ़ घण्टे की मशक्कत के बाद बस स्टैण्ड परिसर की तस्वीर ही बदल गई। जहाँ कचरा और गंदगी पड़ी हुई थी वहीं साफ-सफाई दिखने लगे। जिलाधिकारी ने रहवासियों और यात्रियों से अनुरोध किया कि अपने आस-पास साफ-सफाई रखते हुये 'स्वच्छता की सेवा' पखवाड़ा अन्तर्गत चलाये जा रहे कार्यक्रमों में सहयोग प्रदान करे। साथ ही स्वच्छता के प्रति जागरूक किया व प्लास्टिक, पॉलिथीन के प्रयोग से वातावरण को होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में भी जानकारी दी। इस दौरान जिलाधिकारी के अलावा नगर पालिका अध्यक्षा रजनी साहू, अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. प्रताप सिंह, परियोजना निदेशक डीआरडीए बलिराम वर्मा, उप जिलाधिकारी सदर घनश्याम वर्मा, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका अवनीन्द्र कुमार, जिला विद्यालय निरीक्षक रामशकर, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी माया राम, जिला प्रोबेशन अधिकारी सुरेन्द्र कुमार पटेल, जिला पंचायत राज अधिकारी श्रवण कुमार सिंह, खाद्य सुरक्षा अधिकारी केएन त्रिपाठी, जिला सूचना अधिकारी पीयूष चन्द्र राय के अलावा अन्य मौजूद रहे।

पॉलिथीन की दुकानों पर छापामारी, 16 हजार का जुर्माना ठोंका

ललितपुर : बस स्टैण्ड परिसर में साफ-सफाई अभियान के बाद जिलाधिकारी ने चाय-नाश्ता की दुकानों पर पॉलिथीन की रोकथाम के लिए ताबड़तोड़ छापामार कार्यवाही की। छापामारी के दौरान चाय-नाश्ता की 3 दुकानों एवं पेट्रोल पम्प के पास दो होटलों में पॉलिथीन पायी गई, जिस पर जिलाधिकारी ने कार्यवाही करते हुए चाय-नाश्ता के तीनों दुकानदारों पर दो-दो हजार रुपए तथा दोनों होटल संचालकों पर 5-5 हजार रुपए का जुर्माना आरोपित किया। इस प्रकार 16000 रुपए का जुर्माना लगाया गया, जिसमें से मौके पर 8000 रुपए की तत्काल वसूली की गई। इसके साथ ही प्रत्येक दुकान पर रखे डस्टबिन को भी देखा गया। अधिकतर दुकानों पर डस्टबिन या तो नहीं था या बहुत छोटा पाया गया तथा दुकानों के आसपास जगह-जगह कचरा बिखरा हुआ पाया। इस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी जताते हुये दुकानदारों को कड़ी फटकार लगाई। मौके पर उन्होंने अधिशासी अधिकारी नगर पालिका को निर्देश दिये कि प्रत्येक दुकान पर डस्टबिन रखवाये जायें। साथ ही सायंकाल में भ्रमण कर यह भी देखा जाये कि दुकानदारों द्वारा डस्टबिन का प्रयोग किया जा रहा है या नहीं। मौके पर जिन दुकानदारों द्वारा दुकानों के सामने अवैध रुप से टीनशेड लगाये गए थे उन्हें तत्काल हटवाया गया। उन्होंने अधिशासी अधिकारी को निर्देशित किया कि ऐसी दुकानें जो प्रयोग में नहीं आ रही हैं व अनुचित रुप से स्थान घेरे हैं,उन्हें हटवाया जाये।

यात्री प्रतीक्षालय का शौचालय मिला गंदा, फटकार

ललितपुर : भ्रमण के दौरान जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने यात्री प्रतीक्षालय का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान डस्टबिन के स्थान पर प्लास्टिक के डब्बे रखे पाये गए, जिस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी जाहिर की। मौके पर सफाई कर्मचारी शौचालय की सफाई करता हुआ पाया गया, परन्तु शौचालय में गन्दगी पाये जाने पर जिलाधिकारी ने कर्मचारी को फटकार लगाते हुए नियमित सफाई करने के निर्देश दिये।

Posted By: Jagran