ललितपुर ब्यूरो :

शहर के प्रमुख मुहल्लों में शामिल नेहरू नगर में सफाई व्यवस्था गड़बड़ा गई है। आलम यह है कि वार्ड 1 सिद्दनपुरा व वार्ड 3 में सफाई व्यवस्था चौपट होने के कारण जगह-जगह कचरे के ढेर लगे हैं तो वहीं नालियाँ गन्दगी से बजबजा रही है। ऐसे ही हालात रहे तो बारिश का पानी सड़कों और घरों तक पहुँचेगी, जिससे लोग बीमार होकर बिस्तर पकड़ लेंगे। साफ-सफाई नहीं होने से मुहल्लेवासियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

मुहल्ला नेहरू नगर और समस्यायें एक सिक्के के दो पहलू की तरह है। यहाँ पेयजल की समस्या स्थाई रूप से बनी हुई है तो वहीं साफ-सफाई की समस्या भी विकराल होती जा रही है। शहर को साफ-सुथरा रखने की जिम्मेदारी नगरपालिका प्रशासन की होती है, लेकिन लगता है पालिका इस जिम्मेदारी को पूरा करने में पिछड़ गई है। वैसे भी बारिश से पूर्व शहर की साफ-सफाई व्यवस्था दुरुस्त होना चाहिये साथ ही नाले और नालियों की भी पुख्ता सफाई होना चाहिये ताकि बारिश होने पर नालियों का पानी सड़कों पर न फैले और लोगों को परेशानी न हो। बारिश शुरू हो गई है लेकिन पालिका प्रशासन ने साफ-सफाई की तरफ ध्यान ही नहीं दिया। यही वजह है कि मुहल्ला नेहरू नगर के वार्ड 1 सिद्दनपुरा और वार्ड 3 में सफाई व्यवस्था बद से बदतर हो गई है। आलम यह है कि मोहल्ले में जगह-जगह गंदगी के ढेर लगे हुये है और नालियाँ कचरे से अटी पड़ी है। कचरे को तीन-तीन दिन तक नहीं उठाया जाता। इसकी शिकायत भी की जाती है लेकिन ध्यान नहीं दिया जाता। नियमित रूप से सफाई नहीं होने से संक्रामक बीमारियाँ फैलने का अंदेशा बना हुआ है। वार्ड 1 सिद्दनपुरा में आयुर्वेदिक चिकित्सालय के सामने कचरे का अम्बार लगा हुआ है और सिंहवाहिनी पतरूआ माता मंदिर के पीछे नालियाँ कचरे से भरी पड़ी है। इसी प्रकार वाड 3 में मस्जिद के पीछे कचराघर पर कचरे का ढेर लगा हुआ है। कचरा सड़क पर फैल रहा है जिससे राहगीरों को असुविधा होती है। इसी वार्ड में माँ सरस्वती ज्ञान मंदिर स्कूल के पास नालियाँ गंदगी से बजबजा रही है। सवाल उठता है कि नेहरू नगर की सफाई व्यवस्था की तरफ पालिका का ध्यान क्यों नहीं है।

Posted By: Jagran