ललितपुर ब्यूरो :

पुरानी एवं जर्जर ओसीबी (ऑयल सर्किट ब्रेकर) से आखिरकार बाइपास बिजलीघर को निजात मिल ही गयी। शनिवार को पुरानी मशीन्स हटाकर उनके स्थान पर अत्याधुनिक तकनीकि कि वीसीबी (वेक्यूम सर्किट ब्रेकर) लगायी गयीं। जिसके चलते क्षेत्र की विद्युतापूर्ति दिनभर बन्द रही। नयी मशीन्स लग जाने के बाद न केवल यहाँ की बिजली व्यवस्था में सुधार होगा, बल्कि आए हो रहे फाल्ट में भी नियंत्रण होगा।

बाइपास बिजलीघर से पाँच फीडर निवाई, रघुनाथपुरा, नदनवारा, कल्यानपुरा, खितवाँस संचालित है। यहाँ की क्षमता 10-10 एमवीए यानी की कुल 20 एमवीए के दो ट्रास्फॉर्मर लगे हुए है। यहाँ एक सेट वीसीबी का पहले से स्थापित था, जिससे खितवाँस व कल्यानपुरा फीडर चल रहे थे। लेकिन एक सेट यहाँ ओसीबी के रूप में संचालित था। ये ओसीबी काफी जर्जर एवं खराब हो चुकी थी। गत तीन दिनों से यहाँ ओसीबी पैनल के ब्लास्ट होने से समस्या गहरा गयी थी। एसएसओ ने यहाँ काम करने से इकार कर दिया था, जिसके चलते हरकत में आए अधिकारियों ने स्टीमेट पास हुए बगैर अपने खाते से लोन पर यह मशीन्स उठवाकर बाइपास बिजलीघर पर स्थापित कराई। शनिवार को तयशुदा कार्य के तहत सुबह 8 बजे करीब पूरे क्षेत्र की बिजली बन्द करायी गयी। इसके बाद कार्य शुरू हुआ। दिनभर चले कार्य में पुरानी ओसीबी मशीन्स को हटाकर नई मशीन्सं स्थापित की गयी। देर शाम कार्य पूर्ण कर लिया गया, इसके बाद मशीनों की टेस्टिग की गयी और रात में क्षेत्र की आपूर्ति बहाल कर दी गयी। इस दौरान यहाँ अधिशाषी अभियन्ता एंजिनियर आकाश सचान, उप खण्ड अधिकारी द्वितीय जगदीश प्रसाद, अवर अभियन्ता राजकुमार व उनकी पूरी टीम ने मौजूद रहकर कार्य को समय से पूर्ण कर लिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप