ललितपुर: शुक्रवार सुबह गोविन्द सागर बाँध के पास दो आवारा कुत्तों ने वहाँ भटक रहे गिद्ध पर हमला कर दिया, जिससे वह घायल हो गया। इसी बीच वहाँ से गुजर रहे युवाओ ने कुत्तों को भगाया और गिद्ध की जान बचायी। घायल गिद्ध को फिलहाल वन विभाग के सुपुर्द कर दिया गया। इस गिद्ध को कुछ दिन पूर्व घायल अवस्था में वन विभाग को सौंपा गया था।

सुबह गोविन्द सागर बाँध में गेट के पास एक गिद्ध बैठा हुआ था। इसी बीच उस पर दो कुत्तों ने हमला कर दिया। किसी प्रकार गिद्ध अपना बचाव कर रहा था। तभी मोहल्ला नईबस्ती निवासी अनिकेत चौबे और ग्राम खितवास निवासी शैलेन्द्र अवस्थी वहाँ से गुजरे। उन्होंने कुत्तों को भगाकर किसी प्रकार गिद्ध की जान बचायी। कुत्तों के हमले से उसके पंख में गहरी चोट लग गयी थी, जिससे वह उड़ नहीं पा रहा था। उन्होंने इसकी सूचना पर्यावरणविद् पुष्पेन्द्र सिंह चौहान को दी। इस पर वे मौके पर पहुँच गये। जानकारी मिलने पर वन दारोगा कमलापति त्रिपाठी, वन रक्षक उमराव प्रसाद कुशवाहा बाँध पहुँचे और उसे गोविन्द सागर नर्सरी ले आये। इस दौरान घायल गिद्ध का उपचार भी कराया गया। बता दें कि लगभग 10-12 दिन पूर्व उक्त गिद्ध घायल अवस्था में देवगढ़ के जंगल में पड़ा पाया गया था। इसकी उम्र लगभग तीन वर्ष है। करीब एक सप्ताह तक वन विभाग उसकी देखरेख की गयी थी, बाद में स्वस्थ होने पर उसे गोविन्द सागर नर्सरी में छोड़ दिया गया था। जबकि उसे देवगढ़ के जंगल में ही छोड़ा जाना था। चूँकि वह उसी जंगल का पक्षी था, जहाँ गिद्ध काफी संख्या में पाये जाते है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप