ललितपुर ब्यूरो:

जिले की पुलिस ने नेहरूनगर में बीती रात घटित हत्याकाण्ड की गुत्थी रात भर में ही सुलझा ली है। तहकी़कात में मिले सुबूतों से पता चला है कि सगे भाई ने ही तैश में आकर घर की छत पर खून की होली खेल डाली और फरार हो गया। कोतवाली पुलिस की टीमें उसे सरगर्मी से तलाश कर रही है। उनके हाथ आरोपी की गिरेबा तक पहुंँच गए है। सम्भावना जताई जा रही है कि मंगलवार को पुलिस अधिकारी घटना का पटाक्षेप कर सकते है।

रविवार देर शाम नेहरूनगर निवासी बल्लू (28) पुत्र लाल सिंह राजपूत की हत्या से इलाके में सनसनी फैल गई थी। घटना की सूचना पाते ही अपर पुलिस अधीक्षक अवधेश कुमार विजेता, क्षेत्राधिकारी सदर हिमाशु गौरव, वरिष्ठ उपनिरीक्षक राजबाबू, क्राइम ब्रांच और फील्ड यूनिट के साथ मौके पर पहुंँच गए, जहाँ बल्लू का शव खून से लथपथ पड़ा था। पुलिस अधीक्षक डॉ. ओपी सिंह को पूरे घटनाक्रम से अवगत कराने के बाद अफसरों ने घटनास्थल का बारीकी से मुआयना किया। मौका-ए- वारदात के हालात साफ बया कर रहे थे कि बल्लू को बेरहमी से मौत के घाट उतारा गया। साथ ही यह भी प्रतीत हो रहा था कि हत्या के पहले मृतक ने संघर्ष भी किया होगा। मृतक के सीने में गहरा घाव पाया गया, जिसे मौत की वजह माना जा रहा था। फील्ड यूनिट के वैज्ञानिकों ने सीने में गोली लगने से मौत होने की सम्भावना व्यक्त की थी, नतीजे पर पहुँचने के लिए पुलिस अफसरों ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया और हत्या की वजह का पता लगाने के लिए गहरायी से जाँच शुरू की गई। इस दौरान पता चला कि बल्लू का लगभग एक सप्ताह से उसके भाई से किसी बात को लेकर झगड़ा हो रहा था। घटना के वाली शाम भी दोनों ही भाई घर में अकेले थे और घटना के बाद से उसका भाई अचानक लापता हो गया। साथ ही, यह भी पता चला कि रविवार को मोहल्ले के कुछ युवकों से भी उसका विवाद हुआ था। महत्वपूर्ण सूचनाओं के आधार पर पुलिस ने संदिग्ध तत्वों की धरपकड़ शुरू की। सूत्रों का कहना है कि रात भर चली पड़ताल में पुलिस को इस बात के पक्के सुबूत मिले है कि सगे भाई ने ही तैश में आकर बल्लू को मौत के घाट उतार दिया और फरार हो गया। सम्भावना जताई जा रही है कि भाई की गिरफ्तारी के बाद घटना के कारणों की वास्तविक तस्वीर साफ हो जाएगी।

::

बॉक्स में,

दो लोगों पर जमीनी रजिश में हत्या का आरोप

नेहरूनगर हत्याकाण्ड के मामले में जहाँ पुलिस की जाँच निर्णायक दौर में पहुंँच गई है, वहीं मृतक की पत्‍‌नी ने दो लोगों पर जमीन रजिश में पति की हत्या किए जाने का श़क जाहिर किया है। कोतवाली पुलिस ने उसकी तहरीर पर मुकदमा पंजीकृत करके विवेचना शुरू कर दी है।

नेहरूनगर निवासी मृतक बल्लू राजपूत की पत्‍‌नी लक्ष्मी ने रविवार देर रात पुलिस को तहरीर देकर बताया कि रविवार को सुबह 11 बजे वह जाखलौन गई थी। साथ में रहने वाली ननद गुड्डी चौका झाड़ू व बर्तन साफ करने के काम पर गई थी। ननदोई भी जाखलौन गए थे। रात 8 बजे जब वह अपनी ननद के साथ वापस घर आई तो छत पर जाकर देखा कि पति बल्लू की खून से लथपथ लाश पड़ी थी। पति की नत्थू सिंह निवासी ग्राम गंगारी एवं मंगल सिंह निवासी ग्राम महेशपुरा ने जमीनी रजिश के चलते हत्या कर दी है, जिससे वह बेसहारा हो गई है। कोतवाली सदर पुलिस ने मृतक की पत्‍‌नी की तहरीर के आधार पर नत्थू सिंह एवं मंगल सिंह के खिलाफ आइपीसी की धारा 302 के तहत मुकदमा पंजीकृत कर लिया है।

::

बॉक्स में,

रोज शाम जमता है अराजक तत्वों का डेरा

जिस इलाके में रविवार देर शाम युवक की हत्या की गई, वहाँ रोज शाम अवाछनीय तत्वों का मेला लगता है। क्षेत्रवासियों की मानें तो मृतक के घर के आसपास नशाखोरी और अनैतिक कृत्यों को अंजाम दिया जा रहा था। इसकी जानकारी चौकी नेहरूनगर पुलिस को भी है, फिर भी पुलिस मुख्य मार्गो पर लाठी पटककर अपने दायित्वों को इतिश्री करती रही। कमोवेश यही हालात, नेहरूनगर क्षेत्र की अन्य गली-कूचों का भी है, जहाँ अवैध शराब, कच्ची शराब, गाँजा की बिक्री और अनैतिक कृत्यों को अंजाम दिए जा रहे है, लेकिन पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी है, जिसके परिणामस्वरूप क्षेत्र में हत्या सरीखी वारदातें घटित होने लगी है। क्षेत्रवासियों ने इस ओर पुलिस अफसरों का ध्यानाकृष्ट कराया है।

::

बाक्स में,

अधिक खून बहने से हुई मौत

घटनास्थल के निरीक्षण के दौरान फील्ड यूनिट के वैज्ञानिकों ने सीने में गोली लगने से मौत होने की सम्भावना व्यक्त की थी। नतीजे पर पहुंँचने के लिए पुलिस ने सोमवार को शव का पोस्टमार्टम कराया। सूत्रों के अनुसार पोस्टमार्टम रिपोर्ट में धारदार हथियार सीने में घोंपने के कारण अत्यधिक रक्तस्त्राव होने से युवक की मौत की पुष्टि की गई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस