ललितपुर ब्यूरो:

जल निगम के बोर की शिकायत को लेकर जिला पंचायत सदस्य बार प्रतिनिधि और भाजपा नेत्री के बीच मोबाइल पर तू- तड़ाक हो गई। भाजपा नेत्री ने सत्ता की हनक दिखाकर जिपं सदस्य प्रतिनिधि को औकात में रहने की नसीहत दे डाली। जिला पंचायत सदस्य ने एसपी को शिकायती पत्र देकर एफआइआर पंजीकृत कराए जाने की माँग की है।

बार के वार्ड नम्बर 20 के जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि मोहन लाल कुशवाहा का कहना है कि बार में उद्योग विभाग के भूखण्ड के पास जल निगम ने एक बोर किया था, जो सूख गया था, जिसकी शिकायत खुद को महिला प्रकोष्ठ की पदाधिकारी बताने वाली भाजपा महिला नेत्री ने जिलाधिकारी से की थी। इस शिकायत की जाँच के लिए सहायक अभियन्ता जल निगम केपी सिंह एवं जेई प्रभात मिश्रा बीती तीन मई को मौके पर पहुंँचे, जहाँ जिपं सदस्य प्रतिनिधि मोहन लाल को भी बुलवाया। उनके सामने बोर की जाँच कराई गई तो उसकी गहरायी 154 फीट निकली। शिकायत झूठी होने पर भाजपा नेत्री बौखला गई और सत्ता की हनक दिखाते हुए जिपं सदस्य प्रतिनिधि को फोन पर औकात में रहने की नसीहत दे डाली। मोहन लाल कुशवाहा ने बुधवार को अन्य समर्थकों सहित पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुचकर पुलिस अधीक्षक को सम्बोधित शिकायती पत्र अधीनस्थो को सौंपा, जिसमें भाजपा नेत्री पर गाली गलौज करने, जान से मारने तथा गम्भीर मुकदमे में फँसाने की धमकी देने का आरोप लगाते हुए एफआइआर पंजीकृत किए जाने की माँग की गई है। साथ ही, मोबाइल पर हुई बातचीत की सीडी भी शिकायती पत्र के साथ सौंपी गई है। शिकायती पत्र देने आए जिपं सदस्य के साथ बसपा जिलाध्यक्ष कैलाश नारायण कुशवाहा, संतोष कुशवाहा, जिपं सदस्य गौरीशकर सोनी, रहीश राजपूत, भगत राजा, मोहन लाल, महेश कुशवाहा, चम्पालाल कुशवाहा बछरावनी, रामलाल बार, चन्द्रभान कुशवाहा ककरेला, श्यामलाल, जालम कुशवाहा एवं विक्रम आदि शामिल रहे। इधर, भाजपा नेत्री और जिपं सदस्य प्रतिनिधि के बीच हुई तू-तड़ाक का ऑडियो सोशल मीडिया में वायरल हो गया है, जो चरचा का विषय बना हुआ है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस