ललितपुर ब्यूरो: 'डॉयल - 100 सेवा अब जन सुविधाओं के लिए मास्टर चाबी बन गई है। नयी व्यवस्था के तहत यूपी डॉयल 100 टीम की जिम्मेदारी बढ़ा दी गई है। अब फायर ब्रिगेड (101) और एम्बुलेंस सेवा (108) के लिए भी 100 डॉयल करना होगा। शासन के निर्देश पर अगिन्शमन सेवा व ऐम्बुलेंस सेवा के लिए पूर्व में जारी नम्बरों का एकीकरण करते हुए उसे डॉयल - 100 में समाहित कर दिया है।'

पुलिस पूछेगी 'लोकेशन' : अब 100 नम्बर मिलाने पर पुलिस आपसे लोकेशन समेत अन्य आवश्यक जानकारी लेगी। ऐम्बुलेंस व फायर सर्विस के साथ ही डॉयल 100 की पुलिस टीम भी मौके पर मदद के लिए पहुंँचेगी।

मनोदशा समझ उठाया कदम : बीते कई दशकों से आम जन मानस से लेकर वीवीआइपी तक को आपात स्थिति में सबसे पहले 100 नम्बर ही याद आता है। इसे दृष्टिगत रखते हुए प्रदेश सरकार ने सभी इमरजेंसी सेवाओं को डॉयल 100 से जोड़ने का निर्णय लिया है, जिस पर जिले में क्रियान्वयन भी शुरू हो गया है।

रिस्पास टाइम को लेकर भी गम्भीरता : यदि समय से सुविधा न मिले तो फिर हर बात बेमानी हो जाती है। यूपी डायल 100 के रिस्पास टाइम को लेकर भी गम्भीरता बरती जा रही है, ताकि आवश्यकता पड़ने पर सम्बन्धित को सही समय पर सहायता मुहैया कराई जा सके।

::

बाक्स में

जनपद में उपलब्ध वाहन -

----------------

डॉयल 100 - 35

पीआरवी बाइक - 06

108 ऐम्बुलेंस - 13

102 ऐम्बुलेन्स - 16

अतिरिक्त ऐम्बुलेंस - 01

एएलएस ऐम्बुलेंस - 03

अगिन्शमन - 02

::

बाक्स में,

इनका कहना है -

फोटो-8

ललितपुर : पुलिस अधीक्षक।

::

पुलिस अधीक्षक डॉ. ओपी सिंह ने कोतवाली प्रभारी निरीक्षकों के साथ ही समस्त थानेदारों को निर्देशित किया है कि क्षेत्र की जनता को यूपी डॉयल 100 की नयी खूबियों के बारे में अवगत कराया जाए, ताकि अधिक से अधिक लोग इसकी मदद लेने के लिए जागरुक हो सकें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस