लखीमपुर: टेरर फंडिग के आरोपित इमेका माइकल, पीटर हरमन, दोनों नाइजीरियन सात दिनों की पुलिस कस्टडी रिमांड में रहेंगे जबकि इसी मामले का आरोपित मुमताज सिर्फ 24 घंटे ही पुलिस कस्टडी रिमांड में रहेगा। इस दौरान मामले की विवेचना कर रहे यूपी एटीएस के विवेचक ने नेपाल में स्थित हैक किए गए बैंक खातों के विवरण, नेपाल के अलावा, पाकिस्तान, चीन व रूस से एजेंट की जानकारी, मामले में प्रकाश में आए नाम सुनीता व सरवन के बारे में जानकारी व गिरफ्तारी आदि के बारे में जानकारी हासिल करेगी।

11 अक्टूबर को निघासन क्षेत्र में टेरर फंडिग से जुड़े चार लोगों को निघासन पुलिस ने गिरफ्तार किया था। पूछताछ के दौरान मामला आतंकवादी गतिविधियों व चीन, नेपाल और पाकिस्तान से जुड़ा होने के कारण अंतरराष्ट्रीय स्तर पर टेरर फंडिग का मामला पाए जाने पर वह मामला आतंकवादियों से जुड़े होने जाने पर मामला काफी हाईप्रोफाइल हो गया। अब तक इस मामले में 11 आरोपित जेल जा चुके हैं। आधा दर्जन से अधिक आरोपितों को रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा चुकी है। मुंबई से गिरफ्तार किए गए 27 अक्टूबर को मुंबई से एटीएस की टीम ने माइकल व पीटर हरमन व अशोक खराड़े को गिरफ्तार किया था। इनके पास से लैपटॉप मोबाइल सिम विदेशी सिम समेत लगभग 40 आइटम बरामद हुए थे। तीनों को सीजेएम की कोर्ट में पेश किया गया था जहां से इनको न्यायिक हिरासत के जेल भेज दिया गया था। बुधवार को एटीएस के सीओ व मामले के विवेचक शैलेंद्र सिंह राठौर ने सीजेएम विकास श्रीवास्तव की कोर्ट में अर्जी देकर माइकल, पीटर हरमन व मुमताज को पुलिस कस्टडी रिमांड पर लिए जाने की अर्जी दी थी। गुरुवार को सुनवाई के बाद सीजेएम विकास श्रीवास्तव ने इमेका माइकल व पीटर हरमन को सात-सात दिनों की पुलिस कस्टडी रिमांड व मुमताज की 24 घंटे पुलिस कस्टडी रिमांड स्वीकृति कर दी है। तीनों को शाम चार बजे एटीएस की टीम ने कस्टडी में ले लिया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप