लखीमपुर : गन्ना क्रय केंद्रों पर तौल की व्यवस्था को पारदर्शी बनाने और माफिया पर अंकुश लगाने के लिए गन्ना विभाग अभियान चलाएगा। जिला गन्ना अधिकारी की अगुवाई में टीम क्रय केंद्रों का औचक निरीक्षण करेगी। क्रय केंद्रों की जांच के लिए गन्ना समितियों के सचिवों व निरीक्षकों को भी निर्देश दिए गए हैं। कहीं भी अवैध रूप से गन्ने की खरीद का मामला प्रकाश में आया तो संबंधित के साथ ही चीनी मिल के खिलाफ भी एफआइआर दर्ज कराई जाएगी।

क्रय केंद्रों पर तैनात तौल लिपिकों के पाक्षिक स्थानांतरण ईआरपी (इंटरप्राइज रिसोर्स प्लानिंग) के माध्यम से रैंडम तौर शुरू कराए गए हैं। जिला गन्ना अधिकारी ने बताया कि किसी भी कीमत पर गन्ने की अवैध खरीद नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने बताया कि गन्ना एवं चीनी आयुक्त ने क्रय केंद्रों की विस्तृत जांच के लिए आदेश दिया है। उसका पालन कराया जाएगा।

-----

गन्ना एप और तौल की पारदर्शी व्यवस्था लागू

ईआरपी के तहत ई-गन्ना एप और तौल की पारदर्शी व्यवस्था की गई है। इससे माफिया और बिचौलियों पर अंकुश लगेगा। किसानों को समिति कार्यालय के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। अब किसान घर बैठे ही सारी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।

-बृजेश पटेल, जिला गन्ना अधिकारी, लखीमपुर

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस