लखीमपुर, संवादसूत्र। ढखेरवा से निघासन जाने वाले मार्ग पर एसटीएफ ने छापेमारी कर बिहार के एक तस्कर से 155 जिंदा कछुआ बरामद किया है। तस्कर के कब्जे से अलग अलग बैंकों के तीन एटीएम कार्ड, 3050 रुपये, एक मोबाइल भी मिला हैं। बरामद कछुओं को मुलायम कवच और कठोर कवच के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जो यमुना, चंबल, गंगा, गोमती, घाघरा, गंडक सहित नदियों में बहुतायत में मिलते हैं।

वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज

पकड़े गए तस्कर के विरुद्ध दुधवा पार्क, उत्तर व दक्षिण निघासन रेंज में वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। एसटीएफ एसपी दीपक सिंह के मुताबिक, यह सूचना मिली कि तराई के खीरी जिले में बड़े पैमाने पर विभिन्न प्रजातियों के कछुओं की तस्करी हो रही है। ऐसे तस्कर कछुओं को बेचने के लिए पश्चिम बंगाल के व्यापारियों के संपर्क में रहते हैं, जहां से कछुओं को बांग्लादेश, म्यांमार के रास्ते चीन, हांगकांग, मलेशिया आदि देशों में भेजा जाता है।

स्थानीय तस्करों की तालश में जुटी टीम 

यह जानकारी होने पर एसटीएफ के उपनिरीक्षक तेज बहादुर सिंह की अगुवाई में वन विभाग के साथ छापेमारी की गई। एसटीएफ को पता चला था कि अस्थानी तस्करों के साथ मिलकर भारी मात्रा में कछुओं की तस्करी लखीमपुर से बिहार व पश्चिम बंगाल की जाने वाली है। टीम ने बिहार के गोपालगंज के गांव कुकुर भुक्का निवासी निवासी नीरज दीक्षित पुत्र विपिन दीक्षित को गिरफ्तार कर लिया। डीएफओ सुंदरेश ने जिंदा कछुआ की बरामदगी की पुष्टि करते हुए बताया कि स्थानीय तस्करों की जांच के लिए विभागीय अधिकारियों की टीम छानबीन में लगाई गई है।

Edited By: Anurag Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट