लखनऊ, राज्य ब्यूरो। Drought In UP प्रदेश में इस बार मानसून ने किसानों को निराश किया। सिर्फ आठ जिलों में ही सामान्य वर्षा हो सकी, बाकी के 67 जिलों में बारिश का सूखा (Rain Drought) रहा। इसीलिए चार सितंबर तक कुल वर्षा का आंकड़ा 48.9 प्रतिशत तक ही पहुंच सका है, इसमें सबसे पीछे पूरब है जहां महज 45.3 प्रतिशत ही पानी बरसा, वहीं बुंदेलखंड 75.9 प्रतिशत के साथ वर्षा (Rain) के मामले में औरों से बेहतर है।

कुछ ऐसे भी जिले हैं जहां वर्षा (Rain) का औसत 75 प्रतिशत से कम है लेकिन, वहां के कई ब्लाकों में अच्छी बारिश हुई है। आमतौर पर सूबे में मानसून की दस्तक 15 जून के बाद होती रही है, देर से ही बरसात शुरू तो हुई लेकिन, खरीफ सीजन में जब पानी की जरूरत ज्यादा होती है वर्षा खेतों की प्यास नहीं बुझा सकी।

जुलाई के पहले पखवारे में धूल उड़ती रही और जिन किसानों ने हिम्मत जुटाकर धान की बेहन डाली या खेतों में रोपाई कर ली थी उन्हें फसल बचाने के लिए जूझना पड़ा। अगस्त में भी छिटपुट वर्षा ही हो सकी। ऐसा कोई सप्ताह नहीं रहा जब लगातार वर्षा ने जमकर भिगोया हो। प्रदेश में 12 जिले ऐसे हैं जहां 60 से 80 प्रतिशत, 32 जिलों में 40 से 60 प्रतिशत और 24 जिलों में 40 प्रतिशत से भी कम बारिश हुई है।

उनमें गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद का आंकड़ा 20 प्रतिशत भी नहीं है। फर्रुखाबाद, कुशीनगर, जौनपुर, चंदौली, रायबरेली, कौशांबी व कानपुर देहात में 24.5 प्रतिशत ही बारिश हो सकी है। इसके उलट खरीफ में धान की रोपाई व अन्य फसलों की बोवाई का आंकड़ा अत्याशित रूप से 97 प्रतिशत से अधिक है।

मक्का 96.46, ज्वार 97.22, बाजरा 102.70, मोटे अनाज 100.92, उर्द 97.67, मूंग 102.10, अरहर 100.84, मूंगफली 100.79, सोयाबीन 91.21, तिल 97.17 प्रतिशत बोवाई हो चुकी है। निदेशक बीमा राजेश कुमार गुप्ता कहते हैं कि जिलों में सूखे की पड़ताल हो रही है, जल्द ही स्थिति साफ होगी।

चित्रकूट में वर्षा 129 व सात में 80 प्रतिशत से ऊपर

सितंबर माह में भी बुंदेलखंड 92.6 प्रतिशत को छोड़कर कहीं अपेक्षा के अनुसार बारिश नहीं हुई। पश्चिम में महज 26.8, मध्य में 36.2, पूरब में 63.8 प्रतिशत सहित कुल आंकड़ा 49.4 प्रतिशत तक ही पहुंच सका है। जिलों में सिर्फ चित्रकूट में ही वर्षा 129.5 हो सकी है। इसके अलावा ललितपुर, फिरोजाबाद, आगरा, लखीमपुर खीरी, वाराणसी व प्रतापगढ़ में अधिकतम 80.3 प्रतिशत बारिश हुई है। ये आठ जिले ही सामान्य वर्षा वाले हैं।

सूबे में चार सितंबर तक क्षेत्रवार वर्षा

क्षेत्र -                                                 सामान्य - वास्तविक - प्रतिशत

पश्चिम -                                                568.6    - 272.6   - 47.9

मध्य -                                                  653.5    - 311.3   - 47.6

बुंदेलखंड -                                            659.2    - 500.3   - 75.9

पूरब -                                                  784.2     - 355.6   - 45.3

कुल -                                                    675.3     - 330     - 48.9

पिछले वर्षों में हुई वर्षा 

वर्ष -                  कुल वर्षा -     वर्षा का प्रतिशत

2020-21 -           559.8            - 82.9

2021-22 -           578.4            - 85.7

2022-23 -            330              - 48.9

Edited By: Prabhapunj Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट