लखीमपुर : शनिवार को ई-रिक्शा चालकों की हड़ताल के चलते सड़कों पर पूरे दिन सन्नाटा पसरा रहा। ई-रिक्शा न चलने से लोगों को साधारण रिक्शे या पैदल आना जाना पड़ा।जिनके पास निजी वाहन थे वे तो दिन भर सड़कों पर आराम से आते जाते रहे लेकिन रिक्शों के अभाव में बाहर से आने जाने वालों को साधारण शिक्षकों का ही सहारा रहा।करीब 15 दिन पहले नगर पालिका परिषद द्वारा पुराने रेट पर ही रिक्शा चलाए जाने के निर्णय पर नाराजगी जताते हुए रिक्शा चालकों ने सात सूत्री ज्ञापन नगर पालिका ईओ को सौंपा और दिन भर अपना काम बंद रखा। सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया है कि ई-रिक्शा की रेट लिस्ट वर्तमान महंगाई को देखते हुए तय की जाए क्योंकि इससे रिक्शे वालों के परिवार पल रहे हैं। इसके अलावा सवारी चढ़ाने उतारने की जगह शहर में निश्चित की जाए, जगह-जगह सवारी भरने से कई बार जाम लगता है दुर्घटनाओं का खतरा बना रहता है। ज्ञापन में यह भी मांग की गई कि सड़कों के गड्ढे नगर पालिका की ओर से पटवाए जाएं, जिससे रिक्शा न पलटें। नए रजिस्ट्रेशन रोक कर पहले जिनका रजिस्ट्रेशन हो चुका है उन्हें चलाया जाए। रिक्शों पर सभी ठेकेदारों के नाम हो और रिक्शा स्टैंड पर टीन शेड डलवाया जाए जिससे खाली वक्त में रिक्शा चालक वहां बैठ सकें। ज्ञापन सौंपने वालों में काफी संख्या में ई-रिक्शा चालक शामिल थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस