लखीमपुर: बेहजम ब्लॉक में कार्यरत आंगनबाड़ी की मुख्य सेविका गायत्री देवी को मंगलवार को खुशी का ठिकाना न रहा। उनके सामने मंगलवार को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्क्रीन पर थे और वह उनसे सीधी बात कर रहे थे। गायत्री के लिए ये गौरव का दिन था जब देश के उन 13 जिलों में खीरी भी शामिल था जिनसे प्रधानमंत्री मोदी सीधे रूबरू थे। खुशी से लबालब गायत्री ने पीएम मोदी को बताया कि उसने अपने बेहजम ब्लॉक में 281 बच्चों को कुपोषण से बाहर निकाला है। गायत्री ने पीएम मोदी को ये जानकारी भी दी कि उनके जिले में सुपोषण के दो हजार से अधिक मेले लगे हैं। जहां पर सभी को जागरुक किया गया है। इस मेले में एक ही छत के नीचे तीन विभाग-आइसीडीएस, स्वास्थ्य एवं पंचायतीराज की सेवायें देते हैं। गायत्री द्वारा प्रधानमंत्री को बाल विकास विभाग में नए प्रकार के पोषाहार से बनने वाले व्यंजनों जैसे लड्डू, हलुआ, बर्फी, केक, खिचड़ी आदि के नमूने भी दिखाए। जिसे देखकर प्रधानमंत्री मोदी ने प्रसन्नता व्यक्त की। प्रधानमंत्री द्वारा पोषण मेले में बच्चों की प्रतिस्पर्धा कराए जाने का सुझाव दिया गया। कलेक्ट्रेट के एनआइसी में गायत्री को पीएम मोदी से रुबरू होने के ऐतिहासिक पल तमाम लोगों ने दूरदर्शन के माध्यम से देखा। इसके अलावा पीएम मोदी ने आईसीडीएस एवं स्वास्थ्य विभाग के फील्डकर्मियों यथा आंगनबाड़ी कार्यकत्री, आशा, एएनएम एवं मुख्य सेविकाओं के साथ सीधा संवाद किया।

गोला संवादसूत्र के अनुसार सूबे की स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जननी सुरक्षा योजना के तहत प्रदेश के दो जिलों में आनलाइन लाइव प्रसारण कर योजनाओं की जानकारी दी। प्रधानमंत्री के लाइव शो में संबोधन के तहत स्वास्थ्य विभाग के फ्रंटलाइन वर्कर को संबोधित करते हुए जननी सुरक्षा, प्रधानमंत्री योजना के बारे में विस्तार से जानकारी दी। साथ ही बताया कि सरकार ने गर्भवती महिला को 5 हजार रुपये का भुगतान किया जाएगा। प्रधानमंत्री के लाइव शो को लेकर सीएचसी गोला में टीवी पर आनलाइन प्रसारण की व्यवस्था की गई थी। यह कार्यक्रम प्रदेश के ललितपुर व लखीमपुर में आयोजित किया गया। उक्त जानकारी सीएचसी अधीक्षक डा राजेन्द्र कुमार ने दी।

Posted By: Jagran