लखीमपुर: टेरर फंडिग के मुख्य आरोपित मुमताज अली गुरुवार को पुलिस व एटीएस को चकमा देकर कोर्ट मे सरेंडर होने की कवायद में जुट गया है। मुमताज ने सरेंडर होने के लिए सीजेएम की अदालत में अर्जी दी है। शुक्रवार को आरोपित मुमताज कोर्ट में सरेंडर कर सकता है। सरेंडर अर्जी पर शुक्रवार को सुनवाई होगी। टेरर फंडिग का मुख्य आरोपी मुमताज अली अपने भांजे उम्मेद के साथ मिलकर विदेशों से आने वाले पैसों के लिए नेपाली बैंक के खातेदार मुहैय्या कराने में अहम रोल अदा करता था। बताया जाता है कि मुमताज को नेपाल के बारे में काफी जानकारी है।

एटीएस ने उसके टेरर फंडिग मामले में वांछित होने की रिपोर्ट भी कोर्ट में भेज दी है। मुमताज पर आरोप है कि भारत- नेपाल सीमा से आतंकियों तक लगभग कई करोड़ भारतीय मुद्रा पहुंचाने का है संगीन आरोप है। आतंकी नेटवर्क की चेन का आखिरी मुख्य मोहरा मुमताज नैपाल से नेपाली करेंसी भारत लाता था। बताते हैं कि इस काम का यह छह प्रतिशत कमीशन पाता था भारत मे करेंसी के चेंज करने के बाद देश की राजधानी से जुड़े आतंकवादियों को फंडिग की जाती थी। आतंकवादियों को फंडिग करने में करेंसी को चेंज करने व नैपाली खातेदारों के नाम मुमताज मुहैय्या कराने में अहम रोल अदा करता था मुमताज से नेपाल के खातेदारों और विदेशों से भेजे जाने वाले लोगो के नाम उजागर होंगे। अभियोजन अधिकारी घनश्याम गुप्ता ने बताया कि मुमताज नामक आरोपित ने सरेंडर अर्जी डाली है। जिस पर सुनवाई शुक्रवार को हो सकती है। मुमताज की गिरफ्तारी से कई चौकाने वाले खुलने की उम्मीद है।

ये था मामला

खीरी पुलिस की क्राइम ब्रांच व इंस्पेक्टर निघासन दीपक शुक्ला की टीम ने एक सप्ताह पहले चार आरोपितों को गिरफ्तार किया था। उनके कब्जे से करीब पांच लाख रुपये भारतीय व सवा लाख नेपाली नोट बरामद हुए थे। इन सभी पर आरोप है कि ये लोग नेपाल के बैंक खातों से रकम निकलवा कर भारत लाते थे और उसे भारतीय मुद्रा में तब्दील करवा कर संदिग्ध आतंकियों तक दिल्ली समेत कई बड़े शहरों में पहुंचाते थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप