लखीमपुर, जागरण संवाददाता। लगातार बारिश और बनबसा बैराज से रिलीज किए जा रहे पानी के कारण शारदा व सुहेली नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। पलियाकलां तहसील के घोला व निषाद नगर के बीच सुहेली नदी का बंधा कट जाने से बाढ़ का पानी कई गांवों में घुस गया है। फसलों में भी पानी भर गया है। सैकड़ों एकड़ फसल डूबने की कगार पर हैं।

शारदा नदी का जल स्तर अभी भी खतरे के निशान से ऊपर है। हालांकि रविवार को बनबसा बैराज से पानी का डिस्चार्ज घट गया है। अब केवल 68 हजार क्यूसिक पानी रिलीज हो रहा है। इसलिए शारदा नदी ज्यादा उफान पर नहीं है, जबकि सुहेली नदी का पानी आज भी उफान पर है। एसडीएम व तहसीलदार ने बाढ़ग्रस्त गावों का दौरा कर हालात जाना है। राहत सामग्री पहुंचाने के निर्देश दिए हैं।

सुहेली नदी का बंधा टूट जाने से घोला, निषाद नगर, देबीपुर, मुजहा व खुशीपुर गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। कई घरों में पानी घुस गया है। फसलें भी जलमग्न हो गईं हैं। पहाड़ों पर हुई बारिश व नेपाल की नदियों में पानी छोड़े जाने से उसकी सहायक भारतीय नदियों में भी उफान आ गया है। नेपाल की दोदा नदी में पानी आने से सुहेली नदी का जलस्तर उफान पर है।

उप जिलाधिकारी कार्तिकेय सिंह, तहसीलदार आशीष कुमार ने मौके पर पहुंचकर टूटे हुए बांध का निरीक्षण किया और पानी के अंदर चलकर देखा। दोनों अधिकारियों ने बाढ़ के पानी से पैदल गुजरकर गांव की स्थिति देखी। एसडीएम ने लेखपाल व ग्राम प्रधान जोगा सिंह को बाढ़ से प्रभावित लोगों को तत्काल राहत सामग्री उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

स्थिति पर नजर रखने का दिया निर्देश : इसके अलावा उपजिलाधिकारी कर्तिकेय सिंह ने बताया कि सुहेली नदी का बांध टूटने से कई गांवों में बाढ़ का पानी पहुंच गया है। मौका देखने के बाद राहत सामग्री पहुंचाने के निर्देश दिए गए है। साथ ही अधिकारियों को सतर्क रहने को कहा गया है। इसके अलावा स्थिति पर नजर रखी जा रही है।

संपूर्णानगर : लगातार बारिश से बाढ़ की हालत पैदा हो गई है। सुहेली नदी के उफान से कई गांवों में बाढ़ का पानी भर गया है। हजारों लोग प्रभावित हुए हैं। प्रशासन ने मौके का निरीक्षण करने के बाद राहत पहुंचाने को कहा है। वहीं दाउदपुर इलाके में पहाड़ों पर हो रही बारिश से सैकड़ों गावों में पानी भर गया। खेत व सड़कों पर पानी भरा होने से गांवों के संपर्क लगभग टूट गए। एसडीएम गोला ने बाढ प्रभावित इलाकों का दौराकर संबंधित लेखपालों को कोटेदार के माध्यम से खाद्यान्न व भोजन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया।

Edited By: Vrinda Srivastava

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट