गोलागोकर्णनाथ(लखीमपुर): नेत्र रोगियों के लिए एक अच्छी खबर है कि जल्द ही शहर में आंख के रोगों के उपचार, सुझाव के लिए एक उच्चस्तरीय चिकित्सा केंद्र खुलने जा रहा है। आंख शरीर का बेहद संवेदनशील अंग होती है। आंख के रोगों से बचाव व जागरुकता के क्रम में डॉ. श्राफ चैरिटी आई हास्पिटल के चिकित्सक मजहर नबी ने यह बात मीडिया कार्यशाला में बताई। उन्होंने बताया कि उक्त हास्पिटल की स्थापना 1922 में की गई थी। 1927 से संस्था ने नेत्र रोगों की रोकथाम के लिए अभियान चलाकर नेत्र रोगियों को नि:शुल्क चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध करानी शुरू की। उन्होंने बताया कि जानकारी के अभाव में व्यक्ति अंधता का शिकार हो जाता है। संस्था से जुड़े समाजसेवी अशोक सक्सेना ने बताया कि संस्था द्वारा 16 जनवरी से अब तक सैकड़ों नेत्र शिविरों का आयोजन किया गया है। जिसमें हजारों लोगों को मोतिया¨बद की बीमारी से निजात दिलाई है। मीडिया कार्यशाला में संस्था के प्रबंधक सहदेवा आई हास्पिटल अनुराग मिश्रा ने बताया कि समाज के निचले तबके में जानकारी के अभाव में मोतिया¨बद की समस्या की दर अधिक पाई गई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस