लखीमपुर : शहर के मुहल्ला द्वारिकापुरी वार्ड में कोरोना पॉजिटिव नौ मामले सामने आने के बाद लोगों में डर का माहौल बन गया है। नगरपालिका परिषद के कर्मियों ने शनिवार की रात कोरोना प्रभावित क्षेत्रों में बल्लियां लगाकर गलियों को सील करना शुरू किया। एहतियात के तौर पर कोरोना प्रभावित मुहल्लों में आने-जाने वाले रास्तों पर बाधाएं लगाकर सील कर दिया जाता हैं। प्रशासन का मानना है कि जब दूसरे इलाके के लोग नहीं आएंगे तो वह सुरक्षित रह सकेंगे। नगर पालिका परिषद की टीम जब शनिवार की रात बल्लियां लगाने संतोषनगर कॉलोनी में पहुंची तो कुछ लोगों ने बल्लियां लगाने को लेकर विवाद शुरू कर दिया। कुछ लोगों का मत था कि बल्लियां केवल प्रभावित घर के चारों ओर ही लगाई जाएं। जबकि एक ही घर के तीन लोगों में कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर प्रशासन 100 मीटर की एरिया में चारों ओर से मार्ग सील कर देता है। नगर पालिका कर्मियों के नगर पालिका अध्यक्ष व पुलिस प्रशासन को सूचित करने के बाद पुलिस की मौजूदगी में बल्लिया लगाई जा सकीं। संतोषनगर कॉलोनी शहर की पॉश कॉलोनियों में गिनी जाती है। लॉकडाउन के दौरान इस मुहल्ले के अधिकांश लोगों ने अपने को घरों में ही कैद कर लिया था और घर से बाहर निकलने से बच रहे थे। लॉकडाउन में प्रशासन ने जब राहत दी तो यहां के लोगों ने भी घर से निकलकर अपने व्यवसाय शुरू किए। अब जबकि कोरोना वायरस ने घरों तक में दस्तक दे दी है तो अधिकांश लोग खुद ही बाहर निकलने से बच रहे हैं। गायों के गोबर से गलियां हो रहीं गंदी

मुहल्ला संतोषनगर कॉलोनी में ही तीन घोसी हैं। जिनकी पालतू गाय दिनभर मुहल्ले में घूमती हैं। मुहल्ले की महिलाएं भी सब्जियों का कचरा और बचा हुआ भोजन देती हैं। इससे यह पशु दिन भर गलियों में ही झुंड में घूमते हैं। गंदगी के चलते बरसात में संक्रामक रोगों के फैलने का भय है। ऊपर से कोरोना वायरस भी तेजी से फैल रहा है। नगर पालिका प्रशासन पालतू घूम रही गायों पर अंकुश लगाने की व्यवस्था करे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस