कैचवर्ड- मजबूरी

क्रासर-

- 2021-22 वित्तीय वर्ष में विकास की दिसंबर में ही तैयार हो चुकी है कार्य योजना

- प्लान प्लस साफ्टवेयर में हो चुका है अपलोड, इसी आधार पर होंगे विकास कार्य

अनिल त्रिपाठी

जागरण संवाददाता, कसया: गांवों में नई सरकार तो बन गई, लेकिन नवनिर्वाचित प्रधान जनता के लिए सोचे गए विकास कार्य नहीं करा पाएंगे। इस वर्ष पुराने ग्राम प्रधानों की कार्य योजना के ही कार्य होंगे।

वित्तीय वर्ष 2021-22 की कार्य योजना चुनाव की घोषणा के पहले ही बन गई थी और उसे प्लान प्लस साफ्टवेयर में अपलोड भी कराया जा चुका है। अब इस वर्ष पुराने प्रधानों के कार्यकाल में बनी उसी कार्य योजना पर ही कार्य होंगे। 2021-22 की कार्य योजना 31 मार्च तक प्लान प्लस में अपलोड करने का समय था, लेकिन प्रधानी के चुनाव होने के कारण इस वर्ष दिसंबर में ही पुराने प्रधानों के कार्यकाल में कार्य योजना बनाकर पत्रावली ब्लाकों में जमा करा दी गई थी। जाहिर है कि पुराने प्रधानों ने कार्य योजना बनाई तो उन्होंने अपने मन पसंद काम ही योजना में शामिल कराए होंगे, जिस का सत्यापन कराकर प्लान प्लस साफ्टवेयर में अपलोड भी करा दिया गया और यह लाक भी हो चुका है। अब अधिकांश गांवों में प्रधान बदल चुके हैं ।

---

ग्राम पंचायतों में वैसे तो काम पुरानी कार्य योजना के आधार पर ही होंगे, लेकिन गांव के दो अधिक महत्वपूर्ण काम प्रधान सप्लीमेंट प्लान में शामिल कर उसे कार्य योजना में शामिल कर सकते हैं।

राघवेन्द्र द्विवेद, डीपीआरओ

--

महिला प्रधान ने सदस्यों संग ली शपथ

जोकवा बाजार: ग्राम पंचायत अमवा तिवारी की नवनिर्वाचित ग्राम प्रधान मीरा देवी ने शुक्रवार को प्राथमिक विद्यालय अमवा चौधरी में सदस्यों संग शपथ ली। पूर्व में कोरम पूरा नहीं होने से यहां शपथ ग्रहण नहीं हो सका था।

प्रधान ने कहा कि गांव में बिना किसी भेदभाव के विकास करना प्राथमिकता होगी। नव निर्वाचित सदस्य पिकी, नंदकुमारी देवी, सिगारी देवी, मुनीब अंसारी, सुल्तान अंसारी, राहुल सिंह, पूनम सिंह, बृजेश सिंह, सुमित्रा देवी, मंजय गिरि, सीमा देवी के साथ ही अच्छेलाल गोंड़, रामबेलास तिवारी, रामसागर तिवारी, केदार तिवारी, विभूति गिरि, रामचंद्र गिरि, प्रभुनाथ पटेल,राजेश शर्मा, खुर्शेद आलम, चंदन पटेल, विनोद यादव, बृजेश गोंड़, गुड्डू गोंड़ आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran