कुशीनगर: कुशीनगर में पाथ-वे के सुंदरीकरण के लिए चल रहे निर्माण कार्य में मानक विहीन सामग्री के प्रयोग पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट अभिषेक पांडेय ने नाराजगी जाहिर की है। गुरुवार को उन्होंने निरीक्षण किया और संबंधित ठीकेदारों को कड़ी फटकार लगाई। माथा कुंवर मंदिर के सामने हुए कार्य को देखकर बिफर पड़े। ईओ को भुगतान रोकने का निर्देश देते हुए तो ठीकेदार को आरसीसी तोड़कर पुन: निर्माण कराने का आदेश दिया। चेताया कि गुणवत्ता के साथ खिलवाड़ हुआ तो मुकदमा भी दर्ज कराया जाएगा। रामाभार से लेकर माथा कुंवर मंदिर तक एक करोड़ 40 लाख की लागत से मार्ग के दोनों किनारे पाथ-वे पर आरसीसी निर्माण कार्य कराया जा रहा है। माथा कुंवर मंदिर के सामने हुआ निर्माण कार्य दब गया है, साथ कई जगह दरारें पड़ गई हैं। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने निर्माण कार्य पर पैर मारा तो गिट्टियां उखड़ गईं। थाई मंदिर के समीप हाइटेक प्रसाधन केंद्र पर हुए निर्माण कार्य को संतोषजनक बताया। कहा कि अन्य ठीकेदार भी इस कार्य को माडल बनाएं। ईओ प्रेमशंकर गुप्त ने बताया कि निरीक्षण में कुछ स्थानों पर खराब निर्माण पाया गया है। संबंधित ठीकेदारों का भुगतान तत्काल प्रभाव से रोक दिया गया है। गुणवत्तायुक्त कार्य होने पर ही भुगतान किया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस