कुशीनगर : केंद्र सरकार के किए गए यातायात नियम में नए बदलाव से ड्राइविग लाइसेंस बनवाने वालों की अचानक भीड़ बढ़ गई है। लर्निंग लाइसेंस के लिए आवेदन करने वालों की शुक्रवार को सहज जनसेवा केंद्रों पर जमावड़ा रहा। विभाग की मानें तो पहले प्रतिदिन 40 तक लर्निंग लाइसेंस के लिए आन लाइन आवेदन मिलते थे, जो अब बढ़ कर 100 से अधिक हो गए हैं।

---

यह जमा करनी होगी सरकारी फीस

- नए नियम में डीएल (ड्राइविग लाइसेंस) न रहने पर जुर्माने का प्रावधान है। सहज जनसेवा केंद्र पर दो या चार पहिया में से एक का बनवाने पर 200 रुपये, दोनों का बनवाने पर 350 रुपये जमा करना लर्निंग के लिए जमा करना होगा। स्थायी लाइसेंस के लिए दो या चार पहिया वाहन में से एक के लिए 700 तथा दोनों के लिए 1000 रुपये जमा करने होंगे। इसके बाद आवेदन की हार्ड कापी पर लिखित तिथि पर एआरटीओ कार्यालय में दो फोटो, आधार कार्ड व हाईस्कूल की मार्कशीट की छाया प्रति लानी होगी।

-

तिथि बीतने पर लगेगा जुर्माना

-जिनके लाइसेंस की वैधता खत्म होने वाली है, उन्हें 400 रुपये जमा करनी होगी। वैधता खत्म होने पर जुर्माना भी जमा करना होगा।

---

लाइसेंस का यह मानक

- विभागीय आन लाइन टेस्ट के बाद शिक्षार्थी लाइसेंस जारी होता है। इसके 30 दिन बाद कभी भी स्थायी लाइसेंस के लिए आवेदन कर सकता है। नई व्यवस्था में अभ्यर्थियों का रहना अनिवार्य है, क्योंकि विभाग द्वारा उनका फोटो के साथ फिगर प्रिट भी लिया जाता है।

----

पहली मई 2018 से लागू है व्यवस्था

- एआरटीओ कार्यालय के लिपिक हर्षवर्धन राज ने बताया कि पहली मई 2018 से अब तक आन लाइन ड्राइविग लाइसेंस लगभग 18000 हजार से अधिक बनाए गए है, तो सात हजार लाइसेंसों का नवीनीकरण किया गया।

---

यातायात नियम में बदलाव से बिना लाइसेंस वाहन चलाने वालों पर सख्ती से कार्रवाई होगी। इसलिए जिन लोगों का लाइसेंस न बना हो, वे तत्काल बनवा लें। इसमें लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

संदीप कुमार पंकज, एआरटीओ कुशीनगर

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप