कुशीनगर: नोडल अधिकारी पी गुरु प्रसाद ने बुधवार के कोविड नियंत्रण तैयारियों की स्थलीय निरीक्षण कर जायजा लिया, तो टेक्नीशियन से स्वास्थ्य संबंधी उपकरणों को चलवाकर देखा कि क्या स्थिति है। आक्सीजन प्लांट चालू करा आपूर्ति चेक कराई। पूछा इसका मानक क्या है और प्रयोग कैसे करेंगे।

तीन दिवसीय भ्रमण पर आए नोडल अधिकारी ने जिला संयुक्त चिकित्सालय के एमसीएच विग के एल-टू में कोविड बेडों का निरीक्षण कर पाइप लाइन से पहुंचाई जा रही आक्सीजन आपूर्ति के बारे में जानकारी ली। इसके बाद वेंटिलेटरयुक्त बेडों की स्थिति जांची। आइसीयू वार्ड का निरीक्षण करते समय आपरेटरों से चिकित्सकीय उपकरण चालू कराए, जानकारी भी ली। नगरपालिका परिषद पडरौना द्वारा निर्मित आक्सीजन प्लांट का जायजा लेते हुए आवश्यक दिशा निर्देश दिए। पीकू व एसएनसीयू वार्ड का निरीक्षण करते हुए उपकरणों की जांच की। देखा कि चालू हालत में हैं अथवा नहीं। इस बात की भी जानकारी ली कि अस्पताल में कितने चिकित्सकीय उपकरण हैं और आपरेटर्स की क्या स्थिति है। डाक्टर द्वारा नियमित रूप से निरीक्षण किया जाता है या नहीं। सीएमएस व सीएमओ से जानकारी लेते हुए और बेहतर करने के निर्देश दिए। आपातकालीन प्रेक्षण कक्ष का निरीक्षण करते हुए तकनीकी पहलुओं को समझा। अस्पताल में इलाज कराने आए मरीजों से भी बातचीत की। जले आक्सीजन प्लांट व आक्सीजन स्टोर रूम का भी निरीक्षण किया। डीएम एस राजलिगम, एडीएम देवी दयाल वर्मा, सीडीओ अनुज मलिक, सीएमएस डा.एसके वर्मा, सीएमओ डा.सुरेश पटारिया के साथ नोडल अधिकारी ने जिला पंचायत रिसोर्स केंद्र में बने इंटीग्रेटेड कोविड कमांड कंट्रोल सेंटर देखा। नोडल अधिकारी डा.ताहिर अली से पूछताछ की और कोविड के अद्यतन मामले, कांटेक्ट ट्रेसिग, कितने लोगों को काल गया, संबंधित डाटा व फीडिग रजिस्टर की जांच की। इसके बाद बाहर सचल दल अस्पताल वैन का निरीक्षण किया।

---

नोडल अधिकारी ने देखी व्यवस्था

कसया: नोडल अधिकारी पी गुरु प्रसाद, जिलाधिकारी एस राजलिगम के साथ सपहां सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे। यहां आक्सीजन प्लांट का निरीक्षण करते हुए चालू करा देखा और कर्मचारियों से क्षमता, आकस्मिक स्थिति में आपूर्ति, मरीज के बेड तक आपूर्ति आदि की जानकारी ली। चिकित्सकों को सभी प्रकार की व्यवस्थाएं दुरुस्त रखने व आकस्मिक स्थिति के लिए हर समय तैयार रहने का निर्देश दिया। नोडल अफसर ने सीएमओ डा. सुरेश पटारिया से कहा कि यहां रखे आक्सीजन कंसंट्रेटर जिले के अन्य अस्पतालों में भेजने की व्यवस्था करें। आक्सीजन प्लांट चलाने के लिए स्थायी रूप से कर्मचारी नियुक्त किया जाए। आइसीयू, पीकू,जनरल, कोविड, इमरजेंसी वार्ड सहित अन्य वार्डों का निरीक्षण किया। वार्ड में वेंटिलेटर न होने पर सीएमओ को निर्देशित किया। टीकाकरण की जानकारी लेते हुए आनलाइन पेंडिग डाटा को तत्काल फीड करने को कहा। एसडीएम वरुण कुमार पांडेय, प्रभारी अधीक्षक यूसुफ अली, डा. आरिफ अली, ईओ प्रेम शंकर गुप्ता, अशोक कुमार, लेखपाल कालिदी कला यादव, संगिनी सरोज पाठक, बृजेश मणि त्रिपाठी, बशीर अहमद, अशोक कुमार, अरुण कुमार, रामनाथ आदि उपस्थित रहे।

डीएम ने अधीक्षक को लगाई फटकार

खेसारी गिदहां गांव में टीकाकरण कैंप का निरीक्षण करने नोडल अधिकारी के साथ पहुंचे डीएम ने कसया सीएचसी प्रभारी डा. नीलकमल को फटकार लगाई। दरअसल, प्रशासन ने टीकाकरण से वंचित लोगों की एक सूची तैयार कराई है। उसे वैक्सीनेशन केंद्रों पर रखने और वंचितों को प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण करने का आदेश है। निरीक्षण के दौरान केंद्र पर वह सूची न मिलने पर डीएम नाराज हो गए।

Edited By: Jagran